कुपवाड़ा के पंजगाम सेक्टर में आर्मी कैंप पर आतंकी हमला, 3 जवान शहीद

जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा के पंजगाम सेक्टर में आर्मी कैंप पर आतंकी हमला हुआ है. आत्मघाती आतंकी हमले में एक कैप्टन, एक जेसीओ और एक जवान शहीद हो गए. सुरक्षाबलों के ऑपरेशन में दो आतंकी भी मारे गए. मिल रही जानकारी के मुताबिक एक सेना के सफाई कर्मचारी ने इन दोनों को आतंकियों को मार गिराया है. जबकि एक आतंकवादी के हथियार समेत भाग जाने की खबर है. सेना का सर्च ऑपरेशन जारी है. ये हमला सेना के आर्टीलरी बेस पर हुआ है. ये आर्मी कैंप एलओसी से 5 किलोमीटर दूर कुपवाड़ा में स्थित है.

सुबह 5.15 बजे हुआ हमला
आतंकियों ने सुबह 5.15 बजे के आसपास एलओसी के पास कुपवाड़ा के पंजगाम में आर्मी कैंप में घुसने की कोशिश की. आतंकियों ने अंधेरे का फायदा उठाकर आर्टीलरी कैंप में घुसने की कोशिश की थी. सुरक्षाबलों ने आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन शुरू किया और दो आतंकियों को मार गिराया. इस हमले के बाद सुरक्षा बलों ने पूरे इलाके को घेर लिया है. कैंप के अंदर और बाहर तलाशी अभियान जारी है. लगातार दोनों ओर से फायरिंग हो रही है.

घायल जवानों को एयरलिफ्ट किया गया
इस आतंकी हमले में कैप्टन समेत सेना के 3 जवान शहीद हुए हैं. 5 जवान घायल हुए हैं. घायल जवानों को एयरलिफ्ट कर श्रीनगर लाया गया है. घायल जवानों का इलाज श्रीनगर आर्मी अस्पताल में किया जा रहा है.

ये हुए शहीद
शहीद होने वालों में 25 वर्षीय कैप्टन आयुष यादव कानपुर से, 46 वर्षीय सूबेदार भूप सिंह राजस्थान से, 38 वर्षीय नायक वेंकट रमन विशाखापट्टनम से शामिल हैं.

‘पाकिस्तान अपनी हरकतों से नही आ रहा बाज’
इस हमले को लेकर रक्षा विशेषज्ञों ने पाकिस्तान पर करारा हमला बोला है. राज कादयान ने कहा कि पाकिस्तान में घुसकर कार्रवाई करनी होगी. पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा. उन्होंने कहा कि यह इलाका एलओसी के नजदीक है, इसलिए यहां हमले होते रहते हैं. इनको रोकने के लिए वहां जाना पड़ेगा जहां से हमले होते हैं, हमें पाकिस्तान के खिलाफ कड़ा एक्शन लेना होगा.

गृह मंत्रालय ने बुलाई अहम बैठक
कुपवाड़ा हमले के बाद गृहमंत्रालय ने उच्च स्तरीय बैठक बुलाई है. गृहमंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता में यह बैठक सुबह 11 बजे होगी. बैठक में राजनाथ सिंह के अलावा गृह सचिव,जॉइंट सेक्रेट्री जम्मू कश्मीर, जम्मू कश्मीर के चीफ सेक्रेटरी, ख़ुफ़िया विभाग के अधिकारी सहित गृह मंत्रालय के दूसरे अधिकारी मौजूद रहेंगे. हाल के दिनों में कश्मीर में हमले तेज हुए हैं. साथ ही अलगाववादियों की शह पर पत्थरबाजी की घटनाएं भी बढ़ी हैं.

गृह मंत्रालय की बैठक में कश्मीर में लगातार सुरक्षाबलों पर हो रहे हमलों और पत्थरबाजी की घटनाओं पर चर्चा होगी. इसके साथ ही कश्मीर के लिए दिये गये स्पेशल पैकेज पर कितना खर्च हुआ है, इस पर भी चर्चा होगी.

सेना के कैंप हैं निशाने पर
बता दें कि हाल ही में जम्मू कश्मीर के नौहट्टा में भी सीआरपीएफ कैंप पर ग्रेनेड हमला हुआ था. इस हमले में एक पुलिसकर्मी शहीद हो गया था. इससे पहले उरी, पठानकोट और कुपवाड़ा में हुए आतंकी हमलों में भी सुरक्षाबलों के ठिकानों को निशाना बनाया गया था.