औरंगाबाद ट्रेन हादसा: जबलपुर पहुंचे 16 श्रमिकों के शव

जबलपुर। महाराष्ट्र के औरंगाबाद में ट्रेन से कटकर अपनी जान गवा बैठे 16 श्रमिकों के शवो के साथ श्रमिक स्पेशल ट्रेन आज दोपहर जबलपुर रेलवे स्टेशन पर पहुंची। औरंगाबाद से आने वाली इस ट्रेन में जबलपुर और आसपास के करीब 1400 श्रमिक भी साथ में आए।स्पेशल ट्रेन की एक बोगी में सभी शवों को रखा गया था और उस बोगी को पूरी तरह से लॉक कर दिया गया था। जैसे ही ट्रेन प्लेटफार्म पर पहुंची तो आरपीएफ और जीआरपी ने पूरी ट्रेन को अपने कब्जे में ले लिया और ट्रेन से उतरने वाले श्रमिकों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने की हिदायत भी दी और दूरी बनाकर सभी श्रमिकों को प्लेटफार्म से बाहर आने दिया।

ट्रेन आने के पहले जिला प्रशासन स्वास्थ्य विभाग और रेलवे के अधिकारी भी स्टेशन पर मौजूद थे l कलेक्टर भरत यादव ने बताया कि आज श्रमिक स्पेशल ट्रेन में औरंगाबाद ट्रेन हादसे का शिकार हुए शवों को भी एक अलग बोगी में लाया गया है।जबलपुर से शवो के कोच को अलग कर भेजा गया जबकि श्रमिक स्पेशल ट्रेन का ठहराव यही तक का था यहां से जबलपुर आए मजदूरों को अपने अपने जिलो में बसों के द्वारा भेजा गया है। कलेक्टर भरत यादव ने बताया कि औरंगाबाद में हुई दुर्घटना में जान गवा बैठे श्रमिकों के 11 शव शहडोल और पांच शव उमरिया भेजे जा रहे हैं जबकि दो घायल जो कि क मंडला जिले के हैं उन्हें एंबुलेंस के माध्यम से भेजा गया है।

सभी मजदूर रहेंगे 14 दिन क्वारेटाइन

कलेक्टर की माने तो महाराष्ट्र से आने वाले श्रमिकों की पूरी मेडिकल जांच की जा रही है और अब घर पहुंचने के बाद पूरे 14 दिन तक ये सभी लोग अपने घर में क्वॉरेंटाइन रहेंगे। जिसकी संबंधित जिले के प्रशासनिक अधिकारी निगरानी करेंगे। परिवहन विभाग ने लगाई अपनी 41 बसें श्रमिक स्पेशल ट्रेन में औरंगाबाद से जबलपुर तक आए मजदूरों को यहां से उनके जिलों तक ले जाने के लिए मध्य प्रदेश परिवहन विभाग ने 41 बसों का अधिग्रहण किया था अब यह मजदूर आगे का सफर बरसे करेंगे जानकारी के मुताबिक आज जबलपुर आई श्रमिक स्पेशल ट्रेन में सतना रीवा पन्ना सिंगरौली कटनी मंडला डिंडोरी छिंदवाड़ा बालाघाट में रहने वाले मजदूर थे जो कि अब बस से अपने घर जाएंगे।