स्नातक व रीट में अंग्रेजी विषय के आधार पर हो तृतीय श्रेणी शिक्षक भर्ती

जयपुर। राजस्थान अंग्रेजी स्नातक बेरोजगार संघ ने मुख्यमंत्री, शिक्षामंत्री सहित विभिन्न स्तरों पर ज्ञापन देकर तृतीय श्रेणी सैकण्ड लेबल शिक्षक भर्ती में राजस्थान के संदर्भ में अभी तक की गईं भर्तियों में लागू नियमों की पालना करने की मांग की है। नेहरू गार्डन में बेरोजगार युवक और युवतियों की बैठक में तृतीय श्रेणी शिक्षक भर्ती लेवल 2 की संशोधित विज्ञप्ति में स्नातक इंग्लिश और रीट इंग्लिश के विषय को आधार मानकर, साथ ही बीएड के विषय को नकारते हुए नया विज्ञापन जारी करने की मांग की गई।

अपने दस सूत्री मांगपत्र में महासंघ पदाधिकारियों अध्यक्ष गोपेश उपाध्याय और सचिव मनीश चतुर्वेदी ने कहा है कि प्रदेश में अभी तक जितनी भी शिक्षक भर्ती हुईं उनमें चयन का आधार स्नातक विषय ही रखा गया। यह नियम आरपीएससी एवं सभी केन्द्रीय शिक्षक भर्तियों में लागू है। इसके अलावा राजस्थान के अधिकांश बीएड कॉलेज एवं अन्य राज्यों के भी शिक्षक प्रशिक्षक महाविद्यालयों में अंग्रेजी विषय उपलब्ध ही नहीं है साथ ही राजस्थान के सभी सरकारी महाविद्यालयों में कार्यरत शिक्षकों की पदोन्नति भी स्नातक विषय के आधार पर ही की जाती रही है, रीट एक्ट 2009 में भी तृतीय श्रेणी अध्यापक के लिए बीएड में विषय की कोई अनिवार्यता नहीं है। ऐसे में राज्य सरकार को चाहिए कि चयन प्रक्रियाका आदार स्नातक अंग्रेजी व रीट अंग्रेजी के आधार पर शीघ्र भर्ती सम्पन्न कराए।

उन्होंने बताया कि चूकि बीएड केवल शिक्षक निर्माण की पात्रता डिग्री है इसमें विषय के विषयाध्यापक की कोई भूमिका नहीं है। गौरतलब है कि राजस्थान सहित अन्य प्रदेशों में तो तृतीय श्रेणी शिक्षक लेवल 2 में रीटके पश्चात स्नातक में विषय को आधार मानकर ही परीक्षा ली जाती है तथा इसी आधार पर चयन कियाजाता है। इसमें बीएड की कोई अनिवार्यता ही नहीं है।