विभागीय शिकायतों के निस्तारण के प्रति गंभीरता बरतें और यथा सम्भव उनका शीघ्रता और गुणवत्ता के साथ निस्तारण करना सुनिश्चित करें-अपर जिलाधिकारी

बिजनौर@ अपर जिलाधिकारी वित्त एंव राजस्व सुरेन्द्र राम ने सभी जिला स्तरीय अधिकारियेां को सचेत करते हुए कहा कि विभागीय शिकायतों के निस्तारण के प्रति गंभीरता बरतें और यथा सम्भव उनका शीघ्रता और गुणवत्ता के साथ निस्तारण करना सुनिश्चित करें। उन्होने कहा कि शासन स्तर पर शिकायतों के निस्तारण कार्य को बहुत गंभीरता के साथ विशलेषण किया जा रहा है और अनावश्यक रूप से लम्बित शिकायतों के रखने वाले विभागीय अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही अमल में लायी जा रही है।

उन्होंने बताया कि लम्बित शिकायतों के प्रकरणों वाले अधिकारियों के साथ मुख्यमंत्री स्वयं वीडियो कांफेंस द्वारा रूबरू हो कर निराकरण न किये जाने का कारण के बारे में जानकारी प्राप्त करेगें, इसलिए सभी अधिकारी सचेत रह कर अपने शिकायतों का गुणवत्तापूर्वक निस्तारण करें।

उन्होने तहसील दिवस के अवसर पर प्राप्त सभी शिकायातेां को पूर्ण मानक के अनुसार निर्धारित समय सीमा में निस्तारित करना सुनिश्चित करें ताकि जन सामान्य को भरपूर लाभ प्राप्त हो सके। उन्होने यह भी निर्देश दिये कि सभी अधिकारी अपने-अपने दफ़तरों में प्रातः 9 से 11 बजे तक निश्चित रूप से बैठें और इस दौरान जन शिकायतों को भी सुनकर उनका निस्तारण करना सुनिश्चित करें।  अपर जिलाधिकारी श्री सुरेन्द्र राम आज तहसील नगीना के सभागार में आयोजित तहसील दिवस की अध्यक्षता करते हुए उपस्थित अधिकारियों को निर्देश दे रहे थे।

उन्होंने कहा कि उनके द्वारा आयोजित होने वाले जनता दर्शन के दौरान यदि इस प्रकार का कोई मामला संज्ञान में आता है कि शिकायतकर्ता को अधिकारी उपलब्ध नहीं मिला अथवा उसकी शिकायत को गंभीरतापूर्वक नही सुना गया तो संबंधित अधिकारी के विरूद्व विभागीय कार्यवाही करते हुए शासन को लिखा जाएगा।

तहसील दिवस मे अपर जिलाधिकारी ने कहा कि मुख्यमंत्री की मंशा है कि शासन के निर्देशो के अनुपालन न करने वाले अधिकारियो एवं कर्मचारियो के विरूद्व कठोर से कठोर कार्यवाही की जाए, उन्होने स्पष्ट निर्देश देते हुए कहा कि शिकायतो का निस्तारण न करने वाले कर्मचारी व अधिकारियो के विरूद्व कार्यवाही व स्पष्टीकरण लेते हुए विभागीय कार्यवाही अमल मे लाई जाए।

उन्होने कहा कि शासन की स्पष्ट मंशा है कि प्रदेश के नागरिकों को शासकीय योजनाओं एवं विकास कार्याे का लाभ पहुंचे और कोई भी पात्र व्यक्ति जन कल्याणकारी योजनाओं के फायदे से महरूम न रहे। उन्होने निर्देश दिये कि सभी अधिकारी प्राप्त शिकायतों को पूर्ण गुणवत्ता और मानक के साथ निस्तारित करना सुनिश्चित करें और शिकायतकर्ता की संतुष्टि भी निश्चित रूप, से प्राप्त कर लें, शिकायतकर्ता को संतुष्ट किये बिना शिकायत का निस्तारण स्वीकार्य नहीं होगा।

उन्हेाने यह भी निर्देश दिये कि यदि किसी शिकायत का निस्तारण किया जाना सम्भव नहीं है तो उसका स्पष्ट कारण लिखते हुए शिकायतकर्ता को अवगत कराया जाए ताकि वे अपनी शिकायत को पुनः प्रेषित न कर सके। उन्होने सभी अधिकारियों को कड़े निर्देश दिये कि वित्तीय वर्ष के लक्ष्यो को पूर्ण गुणवत्ता और मानक के अनुसार पूरा करें ताकि विकास कार्याे की प्रगति बाधित न होने पाये।

आज तहसील दिवस मे कुल 95 शिकायतें दर्ज हुयीं, जिनमें से 18 पुलिस विभाग, 26 राजस्व विभाग, स्थानीय निकाय 7, विद्युत विभाग 14 शिकायतें शामिल हैं। शिकायत यथाशीर्घ निस्तारण के लिए अपर जिला अधिकारी द्वारा संबंधित विभागीय अधिकारियों को 07 दिन के अन्दर निस्तारण के निर्देश दिये।

तहसील दिवस के अवसर पर अपर पुलिस अधीक्षक, उप जिलाधिकारी नगीना शिशिर कुमार, उप मुख्य चिकित्साधिकारी, जिला विकास अधिकारी, अधिशासी अभियंता लोनिवि एवं जलनिगम, समाज कल्याण अधिकारी, जिला विद्यालय निरीक्षक, तहसीलदार, खण्ड विकास अधिकारी, ईओ के अलावा सभी जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद थे।