मकर संक्रांति, पोंगल,बिहू,लोहड़ी पर्व की हार्दिक शुभकामनायें

इस ख़बर को शेयर करें:

सूर्य उपासना और दान के पर्व के साथ ही मकर संक्रांति स्वास्थ्य, योग, खान – पान और अध्यात्म का भी पर्व है | इतने बहुआयामी बहुत कम पर्व होते हैं | पर्व के नियमों का पालन करें, तो सर्वांगीण लाभ संभव है | सूर्य अन्नदाता हैं | मकर संक्रांति पर सूर्य की आराधना से पांडु रोग का विनाश, कांति, आयु बल में वृद्धि, नेत्र रोग और चर्म रोग में लाभ मिलता है, साथ ही इस तिथि पर दान करने से सब तरह के लाभो की प्राप्ति होती है |

पर्व का खगोलीय महत्व है | आज से सूर्य की यात्रा अंधकार से प्रकाश की ओर प्रारम्भ हो जाती है | प्रकाश अधिक होने से प्राणियों में चेतना बलवती होती है, इसीलिए त्राटक, शक्ति पूजा और कुंडलिनी जागरण की दीक्षा और सूर्य पूजन और दान का विशेष महत्व है |

आओ हम सब मिलकर सामूहिक योग अभ्यास करके सबके स्वस्थ और निरोगी प्रसन्न सुखमय जीवन के लिए प्रार्थना करें | सभी सम्मानीय गुरुजन प्रकृति प्रेमी समाजसेवी योग साधक भाई बहन सादर आमंत्रित है आदर्श योग आध्यात्मिक केन्द्र स्वर्ण जयंती पार्क भोज यूनिवर्सिटी के सामने से प्रवेश द्वार से करीब पानी के कुंड के पास, कोलार रोड, भोपाल सुबह 8 बजे से 9 बजे तक |