फर्जी एप्स और वेबसाइट से सावधान

क्या आप जानते है कि ऐसे कई फर्जी एप और वेबसाइट सक्रिय हैं जो आधार बनाने, स्कैन करने, स्टेटस जानने या डुप्लीकेट इश्यू करने का दावा करती हैं। ऐसे फर्जीवाड़े से सावधान रहें, वर्ना आपकी निजी जानकारियों का दुरुपयोग हो सकता है और आपको आर्थिक नुकसान भी हो सकता है। इसे खुद भारत सरकार ने स्वीकार किया है।

आधार नंबर मतलब आपकी और आपके फिंगर प्रिंट की पहचान। आपकी निजी जानकारी का दस्तावेज। आपका फोटो आईडी एक ऐसा कार्ड जो आपके बैंक खाते से लिंक है। गैस की सब्सिडी लेनी हो या कोई बड़ा अमाउंट बैंक खाते में जमा करना हो सभी में आधार चाहिए। अब तो विभिन्न परीक्षाओं में भी इसका उपयोग किया जाने लगा है।

यूआईडीएआई का दावा है कि उसने पिछले दिनों सख्त कारवाई करते हुए गूगल प्ले स्टोर पर उपलब्ध 12 वेबसाइट और 12 मोबाइल एप्लिकेशन को बंद करवा दिया है और आदेश जारी किया है कि ऐसी 26 और फर्जी वेबसाइटों को तत्काल बंद किया जाए। हालांकि अब भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (यूआईडीएआई) ने फर्जीवाड़ा पर लगाम लगाने के लिए कमर कस ली है।

मतलब साफ है कि अवैध एप और वेबसाइट अभी भी सक्रिय हैं। हमने गूगल प्ले स्टोर पर सर्च किया तो आधार से सम्बंधित ऐसे ढेरों एप मिले। कौन असली है कौन नकली इनकी पहचान मुश्किल थी। डाउनलोड करने वालों के रिव्यु देखे तो हैरान करने वाले थे। एप को टाइम वेस्टिंग तो बताया ही गया है, गालियां भी दी गई हैं। ऐसे ही लोगों की संख्या उंगलियों पर गिनने वाली थी, जिन्होंने कुछ एप को अच्छा कहा।

यूआईडीएआई के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ. अजय भूषण पांडे ने बताया है कि यूआईडीएआई ने एप या वेबसाइट के मालिकों को आधार कार्ड से संबंधित किसी भी सेवा के लिए अधिकृत नहीं किया है। आधार संबंधित हर प्रकार की सूचना केवल आधार अधिनियम 2016 के प्रावधानों के तहत प्राप्त की जा सकती है। इसका उल्लंघन करने पर आधार अधिनियम की धारा 38 और खंड 7 के तहत दंड का प्रावधान किया गया है।

सरकार ने चेतावनी दी है कि, एप या वेबसाइटों के झांसे में न आएं और किसी को भी अपनी जानकारी न दें। आधार के लिए अपने नजदीकी सरकारी या अधिकृत सेंटर से संपर्क करें कहीं आधार की फोटो उपयोग करते हैं, तो उस पर तारीख जरूर डालें। किसी भी अनजान शख्स को आधार नंबर न दें। आधार संबंधी समस्त सेवाएं केवल यूआईडीएआई की वेबसाइटwww.uidai.gov.in पर ही उपलब्ध हैं।

यूआईडीएआई ने सुझाव दिया है कि अगर किसी व्यक्ति का आधार कार्ड खो जाता है तो वह उसे यूआईडीएआई की अधिकृत वेबसाइट से निशुल्क डाउनलोड कर सकता है।