जबलपुर नायालय में फर्जी बही से जमानत लेने वाले रैकेट ,पर्दाफाश
जबलपुर.
न्यायालयों में ऐसे आरोपियों को जिनको जमानतदार नहीं मिलते हैं,
उनको फर्जी बही के आधार पर जमानत दिलाने वाले एक रैकेट का
पर्दाफाश सिविल लाइन पुलिस द्वारा किया गया है। इस रैकेट के चार सदस्यों ने सीबीआई
कोर्ट के एक आरोपी को ही फर्जी बही के आधार पर जमानत दिलवा दी। यह गिरोह ऐसे आरोपी
खोजता था,
जो कि जबलपुर के बाहर रहते थे और उन्हें आसानी से जमानतदार
नहीं मिलते हैं।
– इस रैकेट के
सदस्य जमानतदार दिलवाने के नाम पर 20 हजार रुपये से लेकर एक लाख रुपये तक वसूलते
थे।
– पकड़े गए
लोगों में बरेला निवासी संतोष उर्फ केशव, गाजी नगर निवासी मुन्ना उर्फ शौकत अली,
दुर्गा कॉलाेनी बेलबाग निवासी वेदप्रकाश अरोरा एवं
बल्दीकोरी की दफाई निवासी गुलाब बर्मन शामिल हैं।
– फर्जी बही
के आधार पर जमानत के शक की शिकायत सीबीआई के विशेष न्यायालय द्वारा सिविल लाइन
पुलिस के पास जांच के लिए भिजवाई गई।
– संतोष ने
प्रदीप कुमार कोचे की जमानत ली थी, जिसके विरुद्ध सीबीआई ने प्रकरण दर्ज किया था।
– जांच में
पाया कि संतोष ने जिस खसरा क्रमांक 234-1 की बही क्रमांक 332832 पर जमानत ली थी,
वह फर्जी है।
– उसके बाद जब
संतोष से पूछताछ की गई तो जानकारी मिली कि चार सदस्यीय रैकेट काम कर रहा है। इसका
सरगना पुराना मुन्ना उर्फ शौकत अली है।

– एसपी डॉ.
आशीष ने फर्जी बही रैकेट का पर्दाफाश करने वाली टीम को पुरस्कृत करने की घोषणा की
है।