दुर्घटनाग्रस्त ट्रक से जा भिड़ी दूसरी कार, तीन घायल
पुलिस की लापरवाही से हुआ हादसा

जबलपुर (जयलोक)। माढ़ोताल थाना अंतर्गत ग्राम नगना के पास बीते २४ घंटों में
एक ही ट्रक से दो कारें टकरा गई। पहले हादसे में जहां कार सवार की मौत हो गई तो
वहीं दूसरे हादसे में तीन लोग बुरी तरह घायल हो गए हैं। ज्ञात हो कि रविवार रात को
इसी  सड़क पर रोड के किनारे खड़े एक ट्रक
से एक कार टकरा गई थी जिसमें चालक की मौत हो गई थी। हादसे के बाद पुलिस ने शव को
तो पीएम के लिए भेज दिया लेकिन सड़क किनारे खड़े ट्रक को नहीं हटाया जिसके कारण
ठीक ऐसा ही हादसा कल रात फिर हुआ।
  पुलिस की लापरवाही ने तीन लोगों की
जिंदगियां खतरे में डाल दी हैं। पुलिस की लापरवाही से तीन लोग फिर एक बार सड़क
हादसे का शिकार हो गए। मामला ग्राम नगना का है। जहां रविवार की रात दो बजे सड़क
किनारे खड़े ट्रक क्रमांक एमपी २० जीए १३४४ से कार क्रमांक एमपी १५ ए ४११२ टकरा गई
थी। इस हादसे में बिलखिरवा निवासी महेश नट की मौके पर ही मौत हो गई थी। इस घटना के
२४ घंटे बाद फिर एक बार ऐसा ही हादसा हुआ। जिसमें कार सवार तीन लोग जख्मी हो गए।
बताया जाता है कि कार सवार कुंती पटेल, सुमीत गौर, मनोज पटेल, एक नाबालिग शादी समारोह से घर लौट रहे थे। सभी एक ही परिवार
के हैं जो विजय नगर के रहने वाले थे। बताया जाता है कि रविवार को हुए हादसे के बाद
पुलिस ने ना तो सड़क किनारे से ट्रक को हटवाया और ना ही वाहां कोई सांकेतिक लगाए
जिसके कारण दूसरे हादसे में भी चालक को रात के अंधेरे में ट्रक दिखाई नहीं दिया और
कार सीधे ट्रक में जा घुसी। गनिमत तो यह थी राहगीरों ने समय पर इसकी सूचना पुलिस
को दी और घायलों को समय पर अस्पताल पहुंचाया जा सका। लेकिन इस हादसे ने पुलिस की
लापरवाही उजागर कर दी है। राहगीरों का कहना था कि अगर पुलिस रविवार रात हुए सड़क
हादसे के बाद ही ट्रक को यहां से हटा देती तो दूसरा हादसा नहीं होता।
शादी से वापस लौट रहा था परिवार दोनों सड़क हादसे में दूसरी समानता यह भी है कि जिस प्रकार महेश नट शादी
समारोह से वापस घर लौट रहा था उसी तरह पटेल परिवार के चारों सदस्य भी शादी समारोह
से वापस घर लौट रहे थे। दोनों हादसे एक ही तरह के हैं। पुलिस ने घायलों का अस्पताल
में भर्ती करवाते हुए आज सुबह ट्रक को सड़क किनारे से हटवाया है।