Skip to content

न्यायालय के आदेश की अव्हेलना करने पर कलेक्टर ने परियोजना अधिकारी म.बा.वि.पथरिया को लगाई फटकार

इस ख़बर को शेयर करें:
दमोह |  दूर दराज क्षेत्रों से आये आम नागरिकों की व्यक्तिगत एवं सार्वजनिक समस्याओं की सुनवाई में कलेक्टर डॉ. श्रीनिवास शर्मा ने अपर कलेक्टर अनिल शुक्ला एवं संयुक्त कलेक्टर नंदा कुशरे के साथ 59 आवेदनों पर सुनवाई की। आज की सुनवाई में कलेक्टर डॉ.शर्मा ने कई शिकायत कर्त्ताओं की शिकातयों को बड़ी गंभीरता से लिया और उन आवेदनों पर कार्यवाही करने के निर्देश के साथ समयावधि पत्रों की समीक्षा में रखने के निर्देश दिये। आज की जनसुनवाई कला अहिरवार एवं राहुल शर्मा को वरदान सावित हुई।
    ग्राम पंचायत बांसाकला की आंगनबाड़ी केन्द्र में सहायिका पद के लिये मेरिट पत्र के आधार पर प्रथम स्थान कला अहिरवार का होने पर उसने आज कलेक्टर के समक्ष अपना आवेदन पत्र प्रस्तुत किया, कलेक्टर डॉ. शर्मा ने इसे गंभीरता से लिया और तत्काल परियोजना अधिकारी पथरिया को मोबाइल फोन पर अपर कलेक्टर जिला दण्डाधिकारी न्यायालय के आदेश की अव्हेलना करने पर फटकार लगाई और निर्देश दिये कि पात्र हितग्राही को ज्वाईन कराकर पालन प्रतिवेदन भेजें।
    इसी प्रकार उन्होंने सिविल वार्ड नम्बर 2 इद्रा कालोनी निवासी राहुल शर्मा द्वारा प्रस्तुत आवेदन में उनके पिताजी सुरेश शर्मा को ब्रेन हेमरेज होने के कारण मृत्यु हो जाने तथा पूरा परिवार मजूदरी कार्य करने पर सहायता राशि दिलाने अनुरोध किया। कलेक्टर डॉ. शर्मा ने श्रमपदाधिकारी को राशि वितरण कराने के निर्देश दिये।  
    जनसुनवाई में जनपद पंचायत पथरिया की ग्राम पंचायत पिपरौधा छक्का की सरपंच नंदिनी पटैल ने ग्राम के तत्कालीन सचिव द्वारा कार्य पूर्ण किये बिना सरपंच के प्रभार से मुक्त करने पर हो रही परेशानी तथा पहले के अधूरे कार्य तत्कालीन सरपंच सचिव से पूर्ण कराने के लिये आवेदन प्रस्तुत किया। कलेक्टर ने एसडीएम पथरिया को जॉचकर सम्पूर्ण प्रतिवेदन प्रस्तुत करने निर्देश दिये। 
    इसी प्रकार सुभाष वार्ड हटा निवासी नारायण प्रसाद असाटी ने रहवासी क्षेत्र में फैक्टरी संचालन की शिकायत पर कार्यवाही नहीं होने पर कलेक्टर के समक्ष आवेदन प्रस्तुत किया। मामले को कलेक्टर ने समयावधि पत्रों की समीक्षा में रखने तथा एसडीएम हटा को स्वयं जाकर जॉच रिर्पोट प्रस्तुत करने निर्देश दिये। तहसील दमोह साकिन बम्होरी बांदकपुर निवासी कस्तूरीबाई ने स्वयं की निजी जमीन पर जबरन कब्जा करने एवं मारपीट करने संबंधी शिकायत पर कार्यवाही करते हुये कलेक्टर ने तहसीलदार दमोह को मौके पर जाकर तत्काल कार्रवाई करने के साथ मामला टी.एल. में रखने के निर्देश दिये।
    विकासखण्ड बटियागढ़ के ग्राम पंचायत बरौदा कला के सचिव द्वारा अपने कर्तव्य में भारी लापरवाही, उदासीनता बरतने, पद का दुरूपयोग करने, शासकीय राशि का गबन करने, पंचायत न आने एवं हैडक्वाटर पर नहीं रहने के साथ विकास कार्यो में भारी गोलमाल कियो जाने पर सरपंच टन्टू ने आवेदन प्रस्तुत किया। प्रकरण को गंभीरता से लेते हुये कलेक्टर ने सीईओ जिला पंचायत को जाँच कराकर प्रतिवेदन प्रस्तुत करने के साथ मामला टी.एल. में रखने के निर्देश दिये।
    थाना नोहटा साकिन रौड हाल ग्राम राजापटना निवासी सावित्री चक्रवती ने थाना तेजगढ़ एवं थाना नोहटा द्वारा रिपोर्ट पर कार्यवाही न करने संबंधी आवेदन प्रस्तुत किया जिस पर कलेक्टर ने प्रकरण गंभीर प्रकृति का होने पर पुलिस अधीक्षक से अपेक्षित हस्तक्षेप कर यथोचित कार्रवाई करने की अपेक्षा की है।
    जनसुनवाई में जनपद दमोह की ग्राम पंचायत आमखेड़ा की सरपंच गिरजाबाई ने आवेदन प्रस्तुत किया है कि पटवारी हल्का नम्बर 32/39 में सोयाबीन, उड़द, अरहर दर्ज है, कृषकों को जॉच करवाकर फसल बीमा राशि दिलाई जाये। ग्राम पंचायत पिपरिया टिकरी में उचित मूल्य की दुकान आवंटन हेतु प्रस्तुत आम समूहों के आवेदन पत्रों पर आपत्ति दर्ज कराते हुये रीनाबाई सींग एवं लक्ष्मीबाई सींग ने उचित जाँच कर दुकान आवंटन किये जाने आवेदन प्रस्तुत किया। अ.रज्जाक ने अपने पिता मु.अजीज की जी.पी.एफ.जीएफईएस एवं एफबीएफ राशि भुगतान कराने आवेदन प्रस्तुत करने पर कलेक्टर ने सीएमएचओ को निर्देशित किया कि वे आवेदक को समक्ष में बुलाकर एक सप्ताह में प्रकरण का निराकरण करायें।
    ग्राम सिमरी कीरत पो.खौजाखेड़ी निवासी शंभू कुर्मी ने मेधावी विद्यार्थी प्रोत्साहन पुरूस्कार की राशि दिलाने आवेदन प्रस्तुत किया। हथनी झापन मार्ग दफाई क्रमांक 1,2,3,5 एवं हरदुआ मार्ग के लगभग 20 मेटों ने संयुक्त रूप से लो.नि.वि. उपसंभाग तेन्दूखेड़ा के उपयंत्री रामेश्वर प्रसाद प्यासी द्वारा सभी श्रमिकों को नाजायज वेतन काटकर आर्थिक एवं मानसिक रूप से प्रताड़ित कर गलत मांग को पूर्ण कराने हेतु दबाव बनाये जाने संबंधी शिकायत दर्ज कराई।
    आज की जनसुनवाई में कलेक्टर डॉ.श्रीनिवास शर्मा ने बिजली, फसल खराब होने, नामांतरण, बटवारा, सीमांकन, आवास कुटीर, राशन कार्ड, स्वास्थ्य, शिक्षा आदि से संबंधित अनेक आवेदनों पर भी सुनवाई कर अधिकारियों को तय समय सीमा में निराकरण करने के निर्देश दिये।