प्रकृतिजन्य कमजोरियों को ताकत बनाकर समाज की मुख्य धारा से जुड़े दिव्यांगजन – मण्डलायुक्त

इलाहाबाद@ विकलांगों के लिए दिव्यांगजन शब्द का ही उपयोग किया जाय। दिव्यांगजन अपनी शारीरिक कमजोरियों को अपनी ताकत बनाकर आत्मनिर्भर बनकर समाज की मुख्यधारा में जुड़ने का प्रयास करें। उक्त वक्तव्य मण्डलायुक्त के थे। मण्डलायुक्त डॉ. आशीष कुमार गोयल आज गुरूवार को विकलांग केन्द्र में आयोजित कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में बोल रहे थे। उन्होंने दीप प्रज्ज्वलित कर विकलांग केन्द्र में आयोजित कार्यक्रम का शुभारम्भ किया।

मण्डलायुक्त ने कहा कि दिव्यागंजनों के लिए विकलांग केन्द्र में किये जा रहे सराहनीय कार्य में डाक्टरों एवं शिक्षकों के सेवाभाव को प्रोत्साहित किया। उन्होंने कहा कि दिव्यांगजनों के हितों के लिए चलाये जा रही संस्थाओं में विकलांग शब्द का उपयोग न करते हुए दिव्यांग शब्द का उपयोग किया जाय।

उन्होंने कहा कि प्रशासन की तरफ से दिव्यांगजनों की हरसंभव मदद की जा रही है। उन्होंने कहा कि दिव्यांगजनों के लिए कराये जा रहे कार्यो का व्यापक स्तर पर प्रचार-प्रसार किया जाय जिससे अन्य लोग भी इनसे प्रेरित होकर अपना सहयोग इन दिव्यागंजों के हितो के लिए करें।

कार्यक्रम के अन्त में मण्डलायुक्त ने दिव्यांगजनों को दिव्यांग उपकरण भेंट किया। दिव्यांगजनों ने फिल्मी गानों पर डांस करके अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन मण्डलायुक्त एवं उपस्थित लोगों को दिखाया। कार्यक्रम का प्रारम्भ राष्ट्रगान के साथ एवं समापन ‘हम होंगे कामयाब‘ की सांस्कृति प्रस्तुति के साथ हुआ। कार्यक्रम में बीना बनर्जी, आर.सी. अग्रवाल सहित दिव्यागंजनों के साथ उनके अभिभावक भारी संख्या उपस्थित थे।