लद्दाख से सेना को पीछे हटा लेने चीन का दावा सच नहीं अभी भी है मौजूद

नई दिल्ली: गलवान घाटी में 20 भारतीय सैनिकों की शहादत के बाद भारत ने सख्ती बरती. चीन से अपनी सेना को पीछे हटाने को कहा. लम्बी बातचीत चली. चीन भी दावा करता रहा कि वह पीछे हट गया है लेकिन ऐसा नहीं हुआ है. पूर्वी लद्दाख में सीमा पर अधिकतर स्थानों से सेना को पीछे हटा लेने के दावा पूरी तरह सच नहीं है. यानी चीन की सेना अभी भी पूर्वी लद्दाख में मौजूद है.

इसे लेकर विदेश मंत्रालय ने बयान दिया है. विदेश मंत्रालय ने कहा कि सैन्य बलों को पीछे हटाने की प्रक्रिया अभी पूरी नहीं हुई है. पूर्वी लद्दाख में सीमा पर अधिकतर स्थानों से बलों को पीछे हटा लेने के चीन के दावे पर विदेश मंत्रालय ने कहा कि पूर्वी लद्दाख में बलों को पीछे हटाने की प्रक्रिया पूरी करने संबंधी कदमों पर विचार करने के लिए भारत एवं चीन के वरिष्ठ कमांडर निकट भविष्य में मुलाकात करेंगे.

विदेश मंत्रालय ने कहा कि सीमावर्ती क्षेत्रों में शांति कायम रखना द्विपक्षीय संबंधों का आधार है. मंत्रालय ने कहा कि हम उम्मीद करते हैं कि चीन सीमा से बलों को पीछे हटाने की प्रक्रिया पूरी करने और तनाव कम करने के लिए हमारे साथ ईमानदारी से मिलकर काम करेगा. बता दें कि गलवान घाटी में 20 भारतीय सैनिकों की शहादत के बाद दोनों देशों के बीच तनाव है.