मरीजों की रोशनी जाने के मामले में डाॅक्टरों को क्लीन चिट
श्योपुर। जिला अस्पताल में मोतियाबिंद ऑपरेशन के बाद मरीजों की आंखों की रोशनी जाने के मामले में डॉक्टरों को क्लीन चिट दे दी गई है. अचरज ये है कि मरीजों की जांच पूरी होने से पहले ही डॉक्टरों को ये क्लीन चिट दे दी गई.
प्रशासन के जरिए शासन को भेजी जांच रिपोर्ट में यह कहा गया है कि किसी भी मरीज की रोशनी नहीं गई है. हालांकि करीब 22 मरीजों ने आंख से धुंधला दिखने की शिकायत की है, जिनका इलाज शुरू कर दिया गया है.
रिपोर्ट में कहा गया कि ऑपरेशन में किसी भी तरह की कोई लापरवाही नहीं पाए जाने पर किसी भी डॉक्टर और अन्य कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं की गई है.
66 लोगों का ऑपरेशन
जानकारी के मुताबिक, जिला अस्पताल में लगे मोतियाबिंद सर्जरी शिविर में नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉ. निर्मला छत्रशाली और सहायक डॉ. राकेश गुप्ता ने 66 लोगों के ऑपरेशन किए थे. सोमवार को जब उनकी आंखों के टांके काटे गए तो पांच लोगों ने दिखाई न देने और करीब 10 से 12 लोगों ने कम दिखाई देने की शिकायत की.
वहीं मंगलवार को छह और मरीजों ने आंखों की रोशनी चले जाने की शिकायत की. जिससे रोशनी खोने वाले मरीजों की संख्या मंगलवार को 11 तक पहुंच गई थी. वहीं और मरीजों के सामने आने पर इनकी संख्या 16 हो गई है.
इस मामले में सीएमएचओ और सिविल सर्जन दोनों ही कुछ भी बोलने से बचते नजर आ रहे हैं. अस्पताल प्रबंधन ने भी मरीजों को कम दिखने की बात तो स्वीकार कर ली है, लेकिन रोशनी चले जाने की बात को वो खारिज करते नजर आए.