स्वच्छता ही सेवा पखवाड़े में देवास की 52 ग्राम पंचायत

इस ख़बर को शेयर करें:

देवास @ स्वच्छता ही सेवा राष्ट्रव्यापी अभियान के अन्तर्गत 02 अक्टूबर 2017 को स्वच्छता दिवस के रुप में मनाते हुए उत्कृष्ट विद्यालय देवास में मुख्यमंत्री स्वच्छता समारोह का आयोजन किया गया। जिसके अन्तर्गत देवास जिले की 6 जनपद पंचायतों के ग्रामीण क्षेत्रों में स्वच्छता के संबंध में उत्कृष्ट कार्य करने वाली ग्राम पंचायतों को सम्मानित किया गया। जिले की खुले में शौच मुक्त हुई कुल 109 ग्राम पंचायतों में से 27 ग्राम पंचायतों को उत्कृष्ठ कार्यो के आधार पर प्रथम, द्वितीय, तृतीय पुरस्कार हेतु सम्मानित कर पुरस्कार वितरित किये गये।

स्वच्छ ग्राम पंचायत पुरस्कार के अन्तर्गत प्रथम पुरस्कार 50 हजार का नयापुरा, खजुरियाबीना, क्षिप्रा, लिम्बोदा, डोकाकुई, रतवाय, पिपलियानानकर, लोंदिया, एवं दोंताजागीर ग्राम पंचायत को तथा द्वितीय पुरस्कार 40 हजार का रतनपुर, मनासा, दतोत्तर, भानगढ़, सोनखेड़ी, रेहमानपुरा गुर्जरगांव, छायनमैना एवं संवरसी ग्राम पंचायत को एवं तृतीय पुरस्कार 30 हजार रुपये का सोबलियापुरा, लखवाड़ा सोंडा, सिरोंज, बागनखेड़ा, बहिरावद, सोनगांव, घट्टियाभाना, बुदासा ग्राम पंचायत को वितरित किया गया।

कार्यक्रम में जिले की 27 चयनित ग्राम पंचायतों के कुल 40 सफाई कर्मियों को 20 प्रतिशत राशि नगद पुरस्कार के रुप में दी गई। इसके अतिरिक्त 18 भजन मंडलियों को 10 हजार रुपये प्रति भजन मंडली पुरस्कार स्वरुप दिये गये। ग्राम में स्वच्छता के प्रति जागरुक करने हेतु 14 बाल टोलियों के 108 बच्चों को प्रति बाल टोली 5000 हजार रुपये नगद पुरस्कार दिया गया एवं किशोरी स्वच्छता के रुप में उत्कृष्ट कार्य करने वाली 60 किशोरियों को भी 1000 हजार रुपये प्रति किशोरी नगद पुरस्कार दिया गया।

उक्त कार्यक्रम में स्वच्छ किचनशेड पुरस्कार में प्रथम पुरस्कार रुपये 50 हजार ग्राम पंचायत मोरुखेड़ी, द्वितीय पुरस्कार रुपये 40 हजार ग्राम पंचायत चिड़ावद, तृतीय पुरस्कार रुपये 30 हजार ग्राम पंचायत सिंदनी के पालक शिक्षक संघ को प्रदान किया गया। इस अवसर पर स्वच्छता ही सेवा पखवाड़ा में जिले की नवीन 52 ग्राम पंचायतों को खुले में शौचमुक्त घोषित किया गया। उक्त कार्यक्रम में कलेक्टर आशीष सिंह द्वारा अवगत कराया गया कि एक ओर जिले में विगत ढाई वर्षो में कुल 57 ग्राम पंचायत खुले में शौच मुक्त हुई थी वहीं दूसरी ओर स्वच्छता ही सेवा पखवाड़े के 15 दिवस में जिले की नवीन 52 ग्राम पंचायतें खुले में शौच मुक्त घोषित हुई है, जो यह दर्शाता है कि देवास जिले में अब स्वच्छता अभियान एक जन आंदोलन के रुप में स्वच्छता पखवाड़े के दौरान परिवर्तित हुआ है।

मुख्य अतिथि नरेन्द्र सिंह राजपूत अध्यक्ष जिला पंचायत देवास द्वारा सभी से अपील की गई कि सभी जनप्रतिनिधि, शासकीय अधिकारी कर्मचारी इस अभियान को व्यक्तिगत तौर पर लेकर जिले को ओडीएफ बनाने में अपनी सक्रिय भूमिका निभायें। कार्यक्रम में सुभाष शर्मा महापौर नगर निगम देवास, अध्यक्ष जनपद पंचायत बागली, देवास, राजीव रंजन मीणा मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत देवास मुख्य रुप से उपस्थित थे।