कलेक्टर ने दी अधिकारियों को नसीहत – शासन की प्राथमिकता वाली योजनाओं के प्रति ठोस और कारगर प्रयास करें

 जबलपुर । कलेक्टर भरत यादव ने आज सोमवार को आयोजित बैठक में सभी विभागों के जिला अधिकारियों को शासन की प्राथमिकता वाली योजनाओं के क्रियान्वयन के प्रति ठोस और कारगर प्रयास करने की नसीहत दी। उन्होंने कहा अधिकारी आम जनता के दु:दर्द को समझें, उनसे संबंधित और जनहित के मुद्दों के निराकरण के प्रति संवेदनशील और गम्भीर बनें। श्री यादव ने बैठक में जहाँ नामांतरण, सीमांकन और बंटवारा के लंबित राजस्व प्रकरणों के निराकरण को गति देने की हिदायत राजस्व अधिकारियों को दी, वहीं किल कोरोना अभियान पर अपनेअपने क्षेत्र में निगरानी रखने के निर्देश भी दिये। उन्होंने शासकीय और निजी निर्माण कार्यों में प्रवासी मजदूरों को प्राथमिकता से रोजगार उपलब्ध कराने के निर्देश भी अधिकारियों को दिये। वहीं प्रवासी मजदूरों को शासन के निर्देशानुसार किये जा रहे खाद्यान्न के वितरण पर भी नजर रखने की बात कही।

राजस्व प्रकरणों के निराकरण की धीमी गति पर जताया असंतोष

कलेक्टर ने बैठक में राजस्व विभाग के अधिकारियों को राजस्व न्यायालयों में दर्ज प्रकरणों के निराकरण में भी तत्परता बरतने की हिदायत देते हुए नामांतरण, बंटवारा एवं सीमांकन के छह माह से अधिक समय से लंबित प्रकरणों के निराकरण को प्राथमिकता देने की हिदायत दी। उन्होंने राजस्व प्रकरणों के निराकरण की मंथर गति पर असंतोष व्यक्त करते हुए सभी एसडीएम को अपने अधीनस्थ तहसीलदार एवं नायब तहसीलदार के परफार्मेंस की नियमित समीक्षा करने और अपर कलेक्टर्स को अनुविभागीयदंडाधिकारियों द्वारा इस दिशा में की जा रही कार्यवाही की मॉनिटरिंग करने के निर्देश दिये । श्री यादव ने कहा कि कोरोना के बहाने से राजस्व प्रकरणों के निराकरण में विलम्ब और हीलाहवाली अब स्वीकार नहीं की जायेगी।

किल कोरोना अभियान: सर्वे में कोई घर, कोई व्यक्ति न छूटे

कलेक्टर श्री यादव ने बैठक में किल कोरोना अभियान की समीक्षा करते हुए दो टूक लहजे में कहा कि कोरोना के सन्दिग्ध मरीजों की पहचान के लिये चलाये जा रहे इस अभियान के तहत एक भी घर और एक भी व्यक्ति सर्वे से नहीं छूटना चाहिये। उन्होंने कहा कि यदि कहीं कोई कमी नजर आती है तो वहॉं दोबारा सर्वे कराया जाये और लापरवाह अमले पर कार्यवाही भी की जाये।

कलेक्टर ने किल कोरोना अभियान के तहत घरघर सर्वे के दौरान कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के उपायों के साथसाथ डेंगू, मलेरिया और मौसमी बीमारियों की रोकथाम के उपायों के प्रति लोगों में जागरूकता पैदा करने के निर्देश दिये। उन्होंने किल कोरोना अभियान में राजस्व, पुलिस एवं स्थानीय निकायों के अधिकारियों की सक्रिय भागीदारी पर जोर देते हुए कहा कि यह केवल स्वास्थ्य विभाग का नहीं, बल्कि सभी विभागों का अभियान है और इसमें सभी विभागों को स्वास्थ्य विभाग के साथ समन्वय बनाकर काम करना होगा।

फिजिकल डिस्टेंसिंग और मास्क न लगाने वालों के विरूद्ध सख्ती बरतें

कलेक्टर ने बैठक में कोरोना के संक्रमण को रोकने के उपायों एवं इस संबन्ध में शासन द्वारा जारी दिशानिर्देशों का कड़ाई से पालन कराने की हिदायत अधिकारियों को दी। उन्होंने कहा कि मास्क न पहनने और फिजिकल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन करने वालों पर जुर्माना लगाने संबंधी की जा रही कार्यवाही में और अधिक सख्ती बरतें।

श्री यादव ने नियमों का उल्लंघन करने वालों पर राजस्व, पुलिस एवं स्थानीय निकायों के अधिकारियों को सयुंक्त  कार्यवाही करने के निर्देश देते हुए कहा कि बाजारों को खोलने एवं अन्य गतिविधियों को छूट दी गई है तो शर्तों के साथ ही दी गई है । यदि कहीं शर्तों का उल्लंघन किया जा रहा है तो तत्काल उनको बन्द कराने की कार्यवाही की जाये।

किसानों को मिले खाद-बीज

कलेक्टर ने बैठक में खरीफ  के मद्देनजर किसानों की आवश्यकता के अनुरूप खादबीज की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करने के निर्दश कृषि एवं सहकारिता विभाग के अधिकारियों को दिये हैं।  उन्होंने कहा कि अमानक खाद एवं बीज के विक्रय को रोकने विक्रय संस्थानों से सेम्पल लिये जायें और दोषी पाये जाने पर सख्त कार्यवाही भी की जाये।

जल प्लावन की समस्या से निपटने सूचना तंत्र मजबूत करें

कलेक्टर ने बैठक में बारिश के मद्देनजर शहरी और ग्रामीण क्षेत्र में पदस्थ राजस्व विभाग, नगर निगम एवं स्थानीय निकायों के अमले को सावधान और सतर्क रहने के निर्देश दिये है। उन्होंने अपनेअपने क्षेत्र में बाढ़ एवं जलप्लावन की स्थिति से निपटने की तैयारियों की समीक्षा करने के निर्देश देते हुए सभी अनुविभागीय दण्डाधिकारियों से कहा कि वे सूचना तंत्र को मजबूत बनायें। 

श्री यादव ने कहा कि सभी अनुविभागीय दण्डाधिकारी कृषि विभाग के अधिकारियों के साथ धान की रोपाई पर भी नजर रखें और यदि धान के रोपों के लिये पानी की जरूरत हो तो अपने क्षेत्र में पदस्थ रानी अवन्ती बाई सागर परियोजना एवं जल संसाधन विभाग के अधिकारियों से समन्वय स्थापित कर नहरों के माध्यम से पानी की उपलब्धता सुनिश्चित करें।

वनाधिकार पत्रों के दावों का दो दिन में करें निराकरण

कलेक्टर ने बैठक में वनाधिकार पत्र के लिये प्राप्त सभी दावों का दो दिन के भीतर निराकरण करने की हिदायत अनुविभागीय राजस्व अधिकारियों को दी । उन्होंने वनाधिकार के जो दावे निरस्त किये गये हैं उनपर भी दोबारा सुनवाई कर दावाकत्र्ता को अपना पूरा पक्ष रखने का अवसर दिया जाये । उन्होंने निरस्त किये गये प्रकरणों में कारणों का स्पष्ट उल्लेख करने की हिदायत भी दी। बैठक में 108 वनाधिकार दावा प्रकरणों को स्वीकृति प्रदान किये जाने की जानकारी भी दी गई।

कलेक्टर ने इस अवसर पर प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत पात्र किसानों के बैंक खाता नम्बर, बैंक शाखा के आईएफएससी कोड और आधार पंजीयन नम्बर की त्रुटि को शीघ्र सुधरवाने के निर्देश भी दिये । कलेक्टर ने बैठक में मुख्यमंत्री जी के निर्देशानुसार आपराधिक तत्वों के खिलाफ कार्यवाही में पुलिस अधिकारियों का सहयोग करने के निर्देश सभी एसडीएम को दिये । उन्होंने खनन माफिया एवं भूमाफिया और निवेशकों के साथ धोखाधड़ी करने वाली चिटफण्ड कम्पनियों के विरुद्ध भी सख्त कार्यवाही के निर्देश अधिकारियों को बैठक में दिये। बैठक में जिला पंचायत के सीईओ प्रियंक मिश्रा,अपर कलेक्टर त्रय हर्ष दीक्षित, संदीप जीआर एवं व्ही पी द्विवेदी भी मौजूद थे ।