कोलंबो टेस्ट: फॉलोऑन के बाद श्रीलंका दो विकेट पर 209 रन बनाए

कोलंबो टेस्ट की दूसरी पारी में श्रीलंकाई बल्लेबाजों ने अपना दमखम दिखाया। पहली पारी में 183 रन पर सिमटने के बाद फॉलोऑन खेलते हुए श्रीलंका ने तीसरे दिन का खेल खत्म होने तक 2 विकेट के नुकसान पर 209 रन बनाए।

कोलंबो टेस्ट के तीसरे दिन टीम इंडिया ने श्रीलंका पर अपनी पकड़ मजबूत कर ली है। या यूं कहे कि श्रीलंकाई टीम पर हार का संकट और गहरा गया है। श्रीलंका की पहली पारी 183 रन पर सिमट गई। पहली पारी में ऑलराउंडर एंजेलो मैथ्यूज ने 33 गेंदों 26 रन और निरोशन डिकवेला ने 51 रन बनाकर श्रीलंका को संघर्ष में बनाए रखा। मैथ्यूज़ को आर.अश्विन ने 26 के स्कोर पर चलता किया और उनकी विकेट के साथ श्रीलंका की आधी टीम 117 रन के स्कोर पर पवेलियन लौट गयी। इस बीच रविंद्र जड़ेजा ने धनंनजय डिसिल्वा का विकेट चटका टेस्ट क्रिकेट में अपने 150 विकेट पूरे किए।

संकट से घिरी श्रीलंका के लिए विकेटकीपर निरोशन डिकवेला ने दबाव के बीच अर्धशतकीय पारी खेली और 48 गेंदों में सात चौके और एक छक्का लगाकर 51 रन बनाये जो श्रीलंकाई पारी का सर्वाधिक स्कोर रहा।लेकिन इसके बाद श्रीलंका का कोई और बल्लेबाज़ संघर्ष की कहानी और लंबा नहीं खींच सका और टीम अपनी पहली पारी में 183 रन पर सिमट गई। भारत को पहली पारी के आधार पर 439 रन की विशाल बढ़त मिली और कप्तान विराट ने श्रीलंका को फॉलोऑन देने का फैसला किया।

बुरी तरह से टूट चुकी श्रीलंका की दूसरी पारी की शुरूआत अच्छी नहीं रही और पहली पारी की तरह उपुल थरंगा दूसरी पारी में भी नाकाम रहे। उमेश यादव ने थरंगा को 2 पर बोल्ड कर श्रीलंका को पहला झटका दिया। लेकिन इसके बाद दूसरे विकेट के लिए कुसल मेंडिस और दिमुथ करूनारत्ने के बीच 191 रन की शानदार साझेदारी सामने आई दबाव से ऊपर उठते हुए कुसल मेंडिस शतक लगाने में सफल रहे।

टीम इंडिया की आंख में किरकरी बनती जा रही इस पार्टनरशिप को तोड़ा हार्दिक पांड्या ने जिनकी इस गेंद पर रिद्दिमान साहा ने कुसल मेंडिस का ये शानदार कैच लपका। मेंडिस 110 पर पवैलियन लौटे। तीसरे दिन का खेल ख़त्म होने पर श्रीलंका ने अपनी दूसरी पारी में 2 विकेट पर 209 रन बना लिए करूनारत्ने 92 रन जबकि नाइटवॉचमैन के तौर पर आए मलिंडा पुष्पकुमारा 2 रन बनाकर क्रीज़ पर नाबाद है। श्रीलंका की टीम अभी भी 230 रन पीछे है जहां हार टालने के लिए टीम को सबसे बड़ी ज़रूरत लगातार अच्छी पार्टनरशिप रखने की है।