गुड़ी पड़वा पर भगवान भास्कर को अर्ध्य देकर नवसंवत्सर का किया अभिनंदन

शिवपुरी @ गुड़ी पड़वा के अवसर पर नगर में स्थित पर्यटन स्थल भदैयाकुण्ड में अल्पसुबह भगवान भास्कर को अर्ध्य देकर नवसंवत्सर अभिनंदन किया गया। इस मौके पर जिला पर्यटन संवर्धन परिषद शिवपुरी, भारत विकास परिषद शाखा शिवपुरी एवं विश्व गीता प्रतिष्ठानम् के सहयोग से नवसंवत्सर अभिनंदन समारोह सम्पन्न हुआ।नवसंवत्सर का स्वागत पूजा पाठ और धार्मिक कार्यक्रमों के साथ किया गया। वहीं शहर भर में विभिन्न संस्थाओं द्वारा राहगीरों को केसरिया तिलक लगाकर नववर्ष की शुभकामनायें दी। नवसंवत्सर अभिनंदन समारोह में प्रातः 05:50 बजे स्वस्तिवाचन मंगलपाठ (सूर्यादय पूर्व) पाठ किया गया। तत्पश्चात सूर्य अभिषेक आचार्यों द्वारा कराया गया। वहीं मंत्रोच्चारण के साथ भगवान सूर्य को वहां मौजूद शहर वासियों ने अर्ध्य अर्पण किया। इसके पश्चात भगवान भास्कर की आरती, शंख और झालरों की ध्वनि से साथ की गई। वहीं ब्रम्हनांद भी किया गया। प्रातः स्थानीय कला मंडली द्वारा शानदार भजनों की प्रस्तुतियां भी दी गई। जिन्हें सुनकर श्रोतागण मंत्र मुग्ध हो गए। इस अवसर पर कलेक्टर ओमप्रकाश श्रीवास्तव, मछुआ कल्याण बोर्ड के उपाध्यक्ष राजू बाथम, अनुविभागीय अधिकारी शिवपुरी रूपेश उपाध्याय, भारत विकास परिषद, विश्व गीता प्रतिष्ठानम् के पदाधिकारीगण विभिन्न स्वयंसेवी संस्थानों के पदाधिकारी, जनप्रतिनिधि, अधिकारियों, समाजसेवी एवं गणमान्य नागरिकों आदि ने भगवान भास्कर को अर्ध्य देकर स्वागत किया।

कलेक्टर ओमप्रकाश श्रीवास्तव ने इस मौके पर जिले के सभी नागरिकों को नववर्ष की शुभकामनाए देते हुए उनके जीवन में खुशहाली लाने की कामना की। उन्होंने जिला पर्यटन संवर्धन परिषद शिवपुरी एवं जिले की विभिन्न स्वयं सेवी संस्थाओं के सहयोग से दो दिवसीय शिवपुरी उत्सव के आयोजन पर प्रकाश डालते हुए कहा कि यह उत्सव शिवपुरी की नई पहचान बनेगा। उन्होंने कहा कि जिला पर्यटन संवर्धन समिति द्वारा जिले मे जो विकास एवं पर्यटन के क्षेत्र में कार्य हाथ में लिए गए है। उनके परिणाम दो माह में दिखाई देने लगेंगे। उन्होंने कहा कि भदैयाकुण्ड के सौदर्यकरण कार्य को शुरू कराने हेतु स्थानीय विधायक एवं मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया द्वारा उपलब्ध कराई गई राशि एवं जनसहयोग से संग्रहित पांच लाख की राशि से भदैयाकुण्ड का नया ही लुक देखने को मिलेगा। इस अवसर पर अशोक पाण्डे ने भी अपने उद्बोधन में कहा कि हिन्दू नववर्ष अनेकों प्रसंगो से जुड़ा हुआ है, आज का दिन हमें गौरान्वित करता है। उन्होंने कहा कि संस्कृति प्रकृति से जुड़ी हुई है, प्रकृति के कण-कण में ईश्वर निवास करते हैं। कार्यक्रम का संचालन आदित्य शिवपुरी ने किया।