कांग्रेस ने लोकतंत्र के मंदिर को भ्रष्टाचार का अड्डा बना रखा थाः सिंधिया

इस ख़बर को शेयर करें:

राजगढ़। कांग्रेस की कमलनाथ सरकार ने 15 माह तक लोकतंत्र का मंदिर कहे जाने वाले बल्लभ भवन को भ्रष्टाचार का अड्डा बना रखा था, वहां किसान के खुशहाल जीवन, नौजवानों के भविष्य, महिला और प्रदेश के विकास-प्रगति के बारे में विचार नहीं किया जाता था, वहां तो नोट कैसे कमाए जाए इसके बारे में मंथन किया जाता था। यह बात राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने मंगलवार को ब्यावरा के नगरपालिका काॅम्पलेक्स पर भाजपा प्रत्याशी नारायणसिंह पंवार के पक्ष में चुनावी सभा को संबोधित करते हुए कही।

उन्होंने कहा कि कमलनाथ और दिग्विजयसिंह की जोड़ी ने किसानों की खुशहाली, महिला और प्रदेश के नौजवानों के साथ वादाखिलाफी कर जो गद्दारी की है, ऐसी जोड़ी को ज्योतिरादित्य सिंधिया उखाड़ कर फैंक देगा। कांग्रेस की इस जोड़ी ने मध्यप्रदेश को भ्रष्टाचार का अड्डा बना दिया था। जब में कांग्रेस में था तो शिवराजसिंह से मेरी प्रतिस्पर्धा राजनीति, कुर्सी, लालबत्ती की नही थी, बल्कि प्रतिस्पर्धा थी तो वह विकास, प्रगति और संवेदनशीलता की थी।

उन्होंने कहा कि 2018 में हमने सोचा था कि विश्व स्तर के उद्योगपति है तो प्रदेश में नए-नए उद्योग और बाहर के लोग निवेश करेंगे, लेकिन यहां निवेश तो एक रुपया का नहीं, बल्कि नया उद्योग ट्रांसफर उद्योग, शराब कारोबर और अवैध रेत का उत्खनन का काम जोरों से शुरु हो गया। कमलनाथ और दिग्विजयसिंह को छोटा भाई और बड़ा भाई की संज्ञा देते हुए कहा कि मुख्यमंत्री का मुखोटा कमलनाथ के चेहरे पर सजाया जाता है, लेकिन पर्दे के पीछे से रस्सिायां दिग्विजयसिंह खींचते है।

राज्यसभा सांसद ने कहा कि आपके पास दो विकल्प है एक तो बड़ेभाई और छोटे की जोड़ी और एक शिवराजसिंह और ज्योतिरादित्य की जोड़ी जो आपके लिए समर्पित है, नतमस्तक है साथ ही प्रदेश के विकास के लिए जी-जान लगाने वाली है। उन्होंने शायराना अंदाज में कहा कि न थके है पैर कभी, न कभी हिम्मत हारी है, जज्वात है जनसेवा का मन में, सफर निरंतर जारी है।

इस मौके पर भाजपा प्रत्याशी नारायणसिंह पंवार ने कहा कि राजनीति में सहानुभूति का कोई स्थान नही है, जनता केवल विकास चाहती है और यह विकास भाजपा के कार्यकाल में ही संभव है। कार्यक्रम में सांसद रोड़मल नागर, भाजपा जिलाध्यक्ष दिलवर यादव, विधायक राजवर्धनसिंह , पूर्व मंत्री बद्रीलाल यादव, अमरसिंह यादव, हरीचरण तिवारी सहित अन्य भाजपा कार्यकर्ता मौजूद रहे।