गिर्राज दंडोतिया और इमरती देवी की शिकायत लेकर चुनाव आयोग पहुंची कांग्रेस

भोपाल। मध्य प्रदेश के विधानसभा उपचुनाव में राजनेताओं के भाषण में विवादित बोल निकल रहे हैं। पूर्व सीएम कमलनाथ द्वारा मंत्री इमरती देवी के लिए अभद्र टिप्पणी के बाद भाजपा ने जमकर विरोध किया था। वहीं अब कांग्रेस ने भाजपा पर पलटवार करते हुए नारी सम्मान व शब्दों की मर्यादा को लेकर भाजपा पर दोहरे चरित्र का आरोप लगाया है और भाजपा नेताओं की शिकायत चुनाव आयोग से की है।

मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने बताया कि प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ डबरा की एक सभा में कहे गए एक शब्द को लेकर हो हल्ला मचाने वाले व प्रदेश भर में मौन व्रत करने वाली भाजपा व शिवराज, भाजपा के मंत्रियों व नेताओं के बिगड़े बोल, नारी जाति के अपमान व खुली गुंडागर्दी पर अभी तक मौन क्यों हैं ?माफी क्यों नहीं मांग रहे हैं ? इस मौन से उनका दोहरा चरित्र और ढोंग सामने आ रहा है।

सलूजा ने शुक्रवार को जारी अपने बयान में कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने किसी का भी नाम लेकर कोई टिप्पणी नहीं की, उसके बावजूद भी उन्होंने बड़प्पन दिखाते हुए खेद व्यक्त कर दिया, लेकिन भाजपा के मंत्री बिसाहूलाल सिंह ने अनूपपुर के कांग्रेस प्रत्याशी की पत्नी को लेकर बेहद आपत्तिजनक शब्द का इस्तेमाल किया।

वहीं भाजपा के केंद्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने महिलाओं को रिजेक्टेड माल तक बताया, उस पर भी भाजपा को अभी तक नारी सम्मान की याद नहीं आई, उनका मौन नहीं टूटा, उन्होंने माफी नहीं मांगी। अब भाजपा की मंत्री इमरती देवी, पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ की दिवंगत माताजी और बहन को लेकर आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल कर रही हैं, अशोभनीय टिप्पणी कर रही हैं।

वहीं उनके दूसरे मंत्री गिर्राज दंडोतिया खुलेआम गुंडागर्दी करते हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया की उपस्थिति में कमलनाथ की गर्दन काटने, उनका कत्ल करने और उनकी लाश बिछाने की धमकी दे रहे हैं। प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के परिवार को लेकर व महिलाओं को लेकर आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल कर है और अशोभनीय टिप्पणी कर रहे हैं।

वही इनके इंदौर के सांसद शंकर लालवानी, कमलनाथ को लेकर आपत्तिजनक टिप्पणी कर रहे हैं, उस पर शिवराज व भाजपा अभी तक मौन क्यों हैं? क्या उन्हें अब नारी जाति का सम्मान याद नहीं आ रहा है ? क्या उन्हें अब माफी माँगने की याद नहीं आ रही है ?

उन्होंने कहा कि प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री व एक इतने वरिष्ठ नेता को लेकर उनके एक मंत्री द्वारा खुले रूप से दी गई जान से मारने की धमकी, खुली गुंडागर्दी पर उनको जरा भी अफसोस नहीं है ? क्या ऐसी भाषा का, गुंडागर्दी का भाजपा समर्थन कर रही हैं ? यही भाजपा का दोहरा चरित्र है, जिसे प्रदेश की जनता खुली आँखो से देख रही है।

कांग्रेस ने मांग करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को, भाजपा को व सिंधिया को तत्काल अपने मंत्री बिसाहूलाल सिंह, गिर्राज दंडोतिया, नरेंद्र सिंह तोमर और इमरती देवी के बयानों को लेकर माफी मांगना चाहिए और तत्काल प्रायश्चित स्वरुप मौन व्रत पर बैठ जाना चाहिए, तभी यह स्पष्ट होगा कि वास्तव में वह नारी जाति के सम्मान के पक्षधर हैं और शब्दों की मर्यादा के भी पक्षधर है।

उन्होंने चेतावनी भरे लहजे में कहा कि कांग्रेस इस मामले में चुप नहीं बैठेगी। कांग्रेस ने आज मंत्री गिर्राज दंडोतिया व इमरती देवी के आपत्तिजनक बयानों की चुनाव आयोग में शिकायत दर्ज करा दी है। इंदौर के सांसद शंकर लालवानी की पूर्व में ही चुनाव आयोग को कांग्रेस द्वारा शिकायत दर्ज करा दी गई है।

कांग्रेस जनता की अदालत में भी इस मुद्दे को ले जाएगी और भाजपा का ढोंग व दोहरा चरित्र उजागर करेगी कि किस प्रकार वह नारी जाति के सम्मान पर एक तरफ तो बड़ी-बड़ी बाते करती हैं और वही दूसरी तरफ उनके मंत्रीगण और नेता किस प्रकार नारी जाति को लेकर अपमानजनक टिप्पणी कर रहे हैं, कैसे खुलेआम गुंडागर्दी कर रहे हैं, कैसे अशोभनीय शब्दों का व अमर्यादित शब्दों का उपयोग कर रहे हैं। वही कांग्रेस को कोसने वाली भाजपा और शिवराज जी अभी तक इन विवादास्पद बयानो पर मौन है, माफी तक नहीं मांग रहे हैं।