वाहन टक्कर में केंट बोर्ड स्वास्थ्य निरीक्षक अधिवक्ता के बीच हुआ विवाद, मामला थाने पहुंचा

इस ख़बर को शेयर करें:

जबलपुर @ (राजेश नामदेव) शनिवार की रात वाहन पर टक्कर मारे जाने के आरोप- प्रत्यारोप से केंट बोर्ड के एक स्वास्थ्य निरीक्षक और अधिवक्ता के बीच शुरू हुआ विवाद रात थाने जा पहुंचा।

जिसके बाद देर रात 1बजे तक केंट पुलिस थाने में हंगामा चलता रहा। दरअसल अधिवक्ता के पक्ष में केंट थाने पहुंचे अन्य अधिवक्ता इस बात पर अड़े हुए थे कि स्वास्थ्य निरीक्षक के विरूद्ध एसटीएससी एक्ट के तहत प्रकरण दर्ज किया जाए।

रात एक बजे तक जब अधिवक्ता नहीं माने तो पुलिस को स्वास्थ्य निरीक्षक के विरूद्ध प्रकरण दर्ज करना ही पड गया। वहीं केंट बोर्ड के स्वास्थ्य निरीक्षक की शिकायत पर अधिवक्ता के विरूद्ध शासकीय कार्य में बाधा डालने सहित अन्य धाराओं में प्रकरण दर्ज किया गया है।

अधिवक्ता के विरूद्ध प्रकरण दर्ज होने से वकील खासे नाराज हैं।वहीं केंंट बोर्ड केे कर्मचारियों का कहना है कि इस तरह की घटनाएं आए दिन शासकीय कार्य के दौरान सामने आ रही हैं।ऐसे माहौल में कार्य करना मुस्किल हो रहा है।

केंट पुलिस के मुताबिक केंट बोर्ड में स्वास्थ्य निरीक्षक के पद पर पदस्थ अभयजीत सिंह परिहार ने शनिवार की रात लिखित शिकायत दी थी कि वे शासकीय वाहन से बोर्ड के गैरेज जा रहे थे। इसी दौरान उनके वाहन के सामने अधिवक्ता मौसम पासी ने अपना दुपहिया वाहन अड़ा दिया और गाली- गलौच करना शुरू कर दिया।

जिससे बचते हुए स्वास्थ्य निरीक्षक ने किनारे से अपना वाहन निकालना चाहा, लेकिन अधिवक्ता बार – बार अपना वाहन शासकीय वाहन के सामने अड़ाता रहा। शिकायतकर्ता स्वास्थ्य निरीक्षक ने पुलिस को बताया कि अधिवक्ता मौसम पासी ने उनके विरूद्ध पूर्व में भी कई शिकायतें की थी।

जिसमें से एक में वे अदालत से दोषमुक्त हो चुके हैं। लिहाजा विवाद के बाद स्थिति को भांपते हुए स्वास्थ्य निरीक्षक सीधे केंट थाने जा पहुंचे। पुलिस ने स्वास्थ्य निरीक्षक अभयजीत सिंह परिहार की शिकायत पर धारा 294,341,353,506 भांदवि के तहत प्रकरण दर्ज कर विवेचना में लिया है।

वहीं इस मामले में थाने पहुंचे अधिवक्ता मौसम पासी ने अपनी लिखित शिकायत में बताया कि वे मोदीबाड़ा निवासी है। शनिवार रात 7.30 बजे वे घर के किसी काम से सदर हेलटगंज की ओर जा रहे थे। तभी अचानक सामने से केंट बोर्ड के स्वास्थ्य निरीक्षक आए और उनके दुपहिया वाहन में टक्कर मार दी।

शिकायतकर्ता अधिवक्ता ने पुलिस को बताया कि वाहन में टक्कर मारने के बाद स्वास्थ्य निरीक्षक ने उसे जाति सूचक गालियां देना शुरू कर दिया। जिससे उन्हे काफी बेज्जती महसूस हुई। वहीं अधिवक्ता मौसम पासी ने स्वास्थ्य निरीक्षक पर उन्हें और उनके परिवार को जान से मारने की धमकी दिए जाने की बात भी कही। पुलिस ने अधिवक्ता मौसम पासी की शिकायत पर धारा 279,294,506 भादवि, 3 (1)(एक्स)एससी-एसटी एक्ट के तहत प्रकरण दर्ज कर विवेचना में लिया है।