‘सहयोग से सुरक्षा’ अभियान के तहत शिवराज ने दिए निर्देश : गांवों में संक्रमण रोकने के हरसंभव प्रयास करें, जबलपुर पर भी दें विशेष ध्यान

भोपाल मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण रोकने के लिए ‘सहयोग से सुरक्षा’ अभियान का प्रभावी क्रियान्वयन किया जाए। सभी को मास्क लगाने, 2 गज की दूरी रखने तथा अन्य सभी सावधानियां बरतने के लिए प्रेरित किया जाए। सभी कलेक्टर्स अपने जिलों में इस कार्य में सभी का सहयोग लें। इन सावधानियों का पालन करते हुए हम कोरोना संक्रमण को आसानी से रोक सकते हैं।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश के 53 हजार गांवों में से 1500 गांवों में कोरोना का कम से कम एक मरीज है। हमें गांवों में कोरोना संक्रमण रोकने के हरसंभव प्रयास करने होंगे। इसके लिए रणनीति बनाकर कार्य करें। ग्राम सभाओं, डोंडी पिटवाने आदि के माध्यम से हर ग्रामवासी को कोरोना से बचाव के संबंध में जागरूक किया जाए।

मुख्यमंत्री श्री चौहान मंत्रालय में वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रदेश में कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा कर रहे थे। बैठक में गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र, नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह, लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी, मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, डीजीपी श्री विवेक जौहरी, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य श्री मोहम्मद सुलेमान उपस्थित थे।

जबलपुर पर विशेष ध्यान दें

जबलपुर जिले की समीक्षा में पाया गया कि गत 7 दिनों में लगभग 600 कोरोना के नए प्रकरण आए हैं। जबलपुर में कोरोना के 1704 पॉजीटिव एवं 495 एक्टिव मरीज है। जबलपुर की पॉजीटिविटी रेट 5.61 है, जो ज्यादा है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने जबलपुर पर विशेष ध्यान दिए जाने के निर्देश दिए। ‘सहयोग से सुरक्षा’ अभियान के अंतर्गत सभी के सहयोग से कोरोना के संक्रमण को रोके जाने के सभी प्रयास किए जाएं।

रीवा एवं शहडोल मेडिकल कॉलेजों का सुदृढ़ीकरण करें

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए कि रीवा एवं शहडोल के मेडिकल कॉलेजों का सुदृढ़ीकरण किया जाए तथा वहां कोरोना के इलाज संबंधी सभी व्यवस्थाएं उत्कृष्ट करें। सभी मेडिकल कॉलेजों में सिटी स्केन की व्यवस्था अनिवार्य रूप से हो।

प्लाज्मा थैरेपी से मरीज को लाभ

समीक्षा में बताया गया कि जबलपुर मेडिकल कॉलेज में प्लाज्मा थैरेपी से मरीजों को लाभ हो रहा है। प्लाज्मा थैरेपी में एक डोनर से 2 प्लाज्मा लिए जाते हैं। मरीज को 2 अलग-अलग डोनर्स का एक-एक प्लाज्मा दिया जाता है।

एक्टिव मरीजों में मध्यप्रदेश 16वें स्थान पर

एक्टिव मरीजों की देश में तुलनात्मक स्थिति अनुसार मध्यप्रदेश 16वें स्थान पर है। वहीं पॉजीटिव मरीजों की दृष्टि से 15वें स्थान पर है। प्रदेश में गत दिवस कोरोना के 10 हजार 312 एक्टिव मरीज एवं 45 हजार 455 पॉजीटिव मरीज थे। प्रदेश में एक्टिव मरीजों की संख्या में 80 की कमी आई है, आज प्रदेश में एक्टिव मरीजों की संख्या 10 हजार 232 है।

मध्यप्रदेश की रिकवरी रेट 75.5 प्रतिशत

मध्यप्रदेश में अभी तक कोरोना के 35 हजार 025 मरीज स्वस्थ होकर घर जा चुके हैं। प्रदेश की रिकवरी रेट 75.5 प्रतिशत हो गई है। प्रदेश की मृत्यु दर 2.43 प्रतिशत है तथा पॉजीटिविटी रेट 4.40 प्रतिशत है।

इंदौर में सर्वाधिक प्रकरण

जिलेवार कोरोना की समीक्षा में पाया गया कि इंदौर जिले में आज कोरोना के सर्वाधिक 245 नए प्रकरण आए हैं। इसके बाद जबलपुर में 93, भोपाल में 92, खरगौन में 36, ग्वालियर में 20 तथा गुना में 20 प्रकरण हैं।