आईडी-कार्ड होगा तब ही लगेगी Corona Vaccine, कालाबाजारी को रोकने के लिए सरकार ने शुरु की तैयारी

केंद्र सरकार कोरोना को लेकर आने वाली वैक्सीन (Corona Vaccine India) को लेकर काफी उत्साहित है. वैक्सीन लोगों तक कैसे पहुंचाई जाए इसे लेकर सरकार अलग-अलग विकल्पों पर विचार कर रही है. नीति आयोग की बैठक में इस बात पर भी चर्चा हुई कि आने वाले वक्त में भारत में जैसे ही वैक्सीन आती है कहीं बाजार में इसकी कालाबाजारी ना शुरू हो जाए. इसे लेकर अभी से तैयारी शुरु हो गई है.

जानकारी के मुताबिक, सरकार ने यह भी तय किया है कि देश के किसी भी राज्य को सीधे यह अधिकार नहीं होगा कि किसी भी विदेशी कंपनी से वह वैक्सीन खरीदे. इसके लिए केंद्र सरकार की ओर से अधिकृत कम्पनियों से ही वैक्सीन खरीदी जा सकेगी.

केन्द्र सरकार वैक्सीन को लेकर काफी सतर्क है. रूस समेत दुनिया के कुछ देशों ने वैक्सीन बनाने और वैक्सीन बनने की अंतिम प्रक्रिया में होने का दावा किया है. इन सबके बीच भारत में भी बड़ी तेजी से वैक्सीन को लेकर काम चल रहा है. इसे ध्यान में रखते हुए सरकार वैक्सीन के कालाबाजारी को रोकने के उपायों पर गौर कर रही है. सरकार वैक्सीन को लेकर नियम कायदे कानून इतने सख्त करने जा रही है जिससे की कोई भी इसका गलत इस्तेमाल नहीं कर सके.

सरकार इस बात को लेकर भी सतर्क है कि कैसे लोगों तक वैक्सीन को पहुंचाया जाए. जानकारी के मुताबिक किसी खास तापमान पर ही वैक्सीन को रखा जा सकता है. भारत के विभिन्न राज्यों में मौसम की विविधता को देखते हुए यह सुनिश्चित किया जा रहा है कि एक निश्चित तापमान पर कैसे लोगों तक इस पहुंचाया जाए.

टीवी 9 को मिली जानाकारी के मुताबिक वैक्सीन को जिन्हें लगाया जाएगा उनके पास सरकारी दस्तावेज का होना जरुरी है. व्यक्ति को अपना सरकारी फोटो पहचान पत्र, आधार कार्ड, वोटर आई कार्ड, पासपोर्ट जैसे दस्तावेज दिखाना जरुरी होगा. इसके साथ ही उसे अपना फोन नंबर भी रजिस्ट्रेशन कराना होगा.

सूत्रों के अनुसार वैक्सीन की उपलब्धता को देखते हुए सरकार ने इसे प्राथमिकता के आधार पर देने का फैसला किया है. इसे ध्यान में रखते हुए खासकर ऐसे लोग जिनमें पहले से कोई बीमारी है उन्हें अपने डॉक्टर की पुरानी पर्ची दिखानी जरुरी होगी. जिससे कि यह साफ हो सके कि व्यक्ति हाई रिस्क ग्रुप में है.