तत्काल शुरू किए जायें विभागीय निर्माण कार्य : कलेक्टर

छात्रवृत्ति का भुगतान में भी गति लायें, स्कूल शिक्षा, उच्च शिक्षा, आदिम जाति कल्याण विभाग के अधिकारियों की बैठक में कलेक्टर के निर्देश

 जबलपुरकलेक्टर भरत यादव ने आज गुरुवार को स्कूल शिक्षा, उच्च शिक्षा, आदिवासी कल्याण, अल्प संख्यक एवं पिछड़ा वर्ग कल्याण तथा महिला एवं बाल विकास विभाग के अधिकारियों की बैठक में विभागीय कामकाज को गति देने तथा सीएम हेल्पलाइन के प्रकरणों का समय सीमा के भीतर निराकरण करने की हिदायत दी है। श्री यादव ने इन अधिकारियों को आंगनबाड़ी केन्द्र एवं अन्य स्वीकृत निर्माण कार्यों को शीघ्र प्रारंभ करने के निर्देश भी दिए हैं। उन्होंने लंबित पेंशन प्रकरणों को निराकरण की ओर भी ज्यादा ध्यान देने पर बल दिया।

श्री यादव ने बैठक में अनुसूचित जाति, जनजाति एवं अन्य पिछड़ा वर्ग के छात्र-छात्राओं को छात्रवृत्ति के भुगतान में हुई प्रगति की समीक्षा भी की। उन्होंने इन वर्गों के शेष पात्र छात्र-छात्राओं को भी छात्रवृत्ति का शीघ्र भुगतान करने के निर्देश दिए।

कलेक्टर ने कहा कि निजी अथवा शासकीय महाविद्यालयों में अध्ययनरत कोई भी छात्र-छात्रवृत्ति का भुगतान में विलंब होने और इस कारण परीक्षा शुल्क नहीं चुका पाने के कारण परीक्षा से वंचित नहीं होना चाहिए। उन्होंने कहा कि इस तरह की शिकायतें प्राप्त होती हैं तो तत्काल एक्शन लेकर संबंधित उच्च शिक्षा संस्थानों पर कार्यवाही की जाए।

श्री यादव ने बैठक में महिला बाल विकास के अधिकारी को टेक होम राशन के वितरण पर निगरानी रखने के लिए विभाग के मैदानी अधिकारियों को जिम्मेदार बनाने के निर्देश दिए। उन्होने आंगनबाड़ी केन्द्रों के लिए भवन निर्माण के कार्य में गति लाने के निर्देश दिये हैं। श्री यादव ने कहा कि यदि पंचायतों द्वारा आंगनबाड़ी केन्द्र भवन के निर्माण में विलंब किया जा रहा है तो संबंधित ग्राम पंचायत के सरपंच को वसूली के नोटिस जारी किए जाएं।

कलेक्टर ने बैठक में मौजूद अधिकारियों से कहा कि वे अपने विभाग के मैदानी अमले को कोरोना वायरस के संक्रमण के लिहाज से हाईरिस्क व्यक्तियों की पहचान करने तथा उनके स्वास्थ्य पर निगरानी रखने के लिए भी निर्देशित करें। उन्होंने कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम एवं बचाव के उपायों का ग्रामीण क्षेत्र में प्रचार-प्रसार करने के निर्देश देते हुए कहा कि शिक्षा, आदिम जाति कल्याण तथा महिला एवं बाल विकास विभाग के अमले को राष्ट्रीय टीकाकरण सहित अन्य स्वास्थ्य कार्यक्रमों के क्रियान्वयन पर निगरानी रखनी होगी।

कलेक्टर ने बैठक में इन विभागों के मैदानी अमले के माध्यम से शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्र में स्थापित किए गए फीवर क्लीनिक तक ज्यादा से ज्यादा लोग पहुंचे इसके प्रयास करने के निर्देश भी दिए हैं। श्री यादव ने डेंगू एवं मलेरिया तथा वर्षाकाल में होने वाली बीमारियों से बचाव के उपायों के प्रति आमजनता में जागरूकता पैदा करने के लिए विभागीय अमले को सक्रिय करने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं।

श्री यादव ने बैठक में अधिकारियों को चेतावनी दी है कि यदि विभागीय निर्माण कार्य यदि दस दिन के भीतर शुरु नहीं हुए तो उनके विरूद्ध कार्यवाही की जायेगी। उन्होंने कहा कि बारिश में भी स्कूल भवन एवं आंगनबाड़ी के भवनों एवं छात्रावास भवनों का काम न रुके इस ओर भी अधिकारियों को विशेष ध्यान देना होगा. बैठक में डिप्टी कलेक्टर मेघा पवार, जिला कार्यक्रम अधिकारी एमएल मेहरा जिला शिक्षा अधिकारी सुनील नेमा, सहायक संचालक पिछड़ा वर्ग आशीष दीक्षित तथा आदिम जाति कल्याण उच्च शिक्षा, विभाग के अधिकारी मौजूद थे।