अबतक तीन हत्याओं का खुलासा हो जाने के बावजूद यह शख्स न जाने और कितने राज दबाए है

दो माह से शराब पीकर जिंदा है, तीन महीने से नहाया नहीं है

भोपाल/रायपुर। जितनी तरह की कहानी इस शख्स के बारे में घूम रही है, उतने पर यकीन करना ही मुश्किल होता जा रहा है। अबतक तीन हत्याओं का तो खुलासा हो चुका है। न जाने और कितने राज दबाए यह शख्स बैठा हुआ है। तमाम हलचलों के बीच उदयन एकदम शांत है। क्योंकि, उसने तो पहले ही कह दिया था कि वह तो खुद ही मरनेवाला था। अब जो भी होना है, हो, मुझे परवाह नहीं है।

कहा जा रहा है उदयन पिछले तीन महीने से नहाया नहीं है। दो माह से केवल शराब पीकर ही जिंदा है। खाना-पीना भी उसका बंद है। यह सब उसने अपनी प्रेमिका के गम में कर रखा है। सूत्रों के मुताबिक उसे रोज नई-नई लड़कियों की भी लत लग चुकी थी। कई बार वह विदेश में अय्याशी करने ही जाता था। थाइलैंड उसकी पसंदीदा जगहों में से एक थी।

कहा जा रहा है कि गर्लफ्रेंड की मौत के बाद से रोज एक नई कॉल गर्ल को बुलाता था। उसको घर लाने से पहले उदयन अपनी गर्लफ्रेंड की समाधि पर इत्र-परफ्यूम छिड़कता था। फिर, शराब का पैग बनाता था और कॉलगर्ल के साथ ड्रिंक करता था। वह उन लड़कियों में अपनी गर्लफ्रेंड को तलाशता रहता था। जैसे-जैसे उदयन राज की परतों को खोल रहा है, वैसे-वैसे पुलिस अपने जांच की गहराई को बढ़ाती जा रही है। वह करोड़ों की संपत्ति का मालिक है।

इस मामले का खुलासा बीते गुरुवार को तब हुआ, जब पश्चिम बंगाल की पुलिस आकांक्षा श्वेत को खोजते-खोजते उसके घर पहुंची। तब पुलिस को यह लग रहा था कि यह महज एक प्रेम विवाह का मामला है। लेकिन, जब उदयन ने पूछताछ में उसकी हत्या करना स्वीकार कर लिया, तब पुलिस परेशान हो गई। इसके बाद उसने भोपाल पुलिस को यह भी बताया कि उसने रायपुर में अपने घर में मां-पिता की भी हत्या कर दफना चुका है। आकांक्षा को भी उसने भोपाल के अपने घर में दफना दिया था और उस पर चबूतरा बनवा चुका था। कोर्ट ने उसे पश्चिम बंगाल पुलिस को छह दिन की ट्रांजिट रिमांड पर सौंप रखा है। अब रायपुर पुलिस भी उसे रिमांड पर लेने की तैयारी में है।

पुलिस को लगता है कि उसने और भी हत्याएं की हैं। क्योंकि, भोपाल में भी कुछ गुमशुदगियां हुई हैं, जो पहली नजर में पुलिस उससे जोड़कर देख रही है। अबतक की जानकारी के मुताबिक उसने फेसबुक पर दो सौ से अधिका आईडी बना रखी थी। सब पर वह चैटिंग करता था और लड़कियों को फांसता था। अश्लील मैसेज भी भेजता था। कुछ आईडी तो उसने ओबामा, ट्रंप और कुछ विदेशी नेताओं के नाम से भी बना रखा था। कुछ में वह खुद को एक इंजीनियर बताता था और बड़े लोगों से रिश्ते की बात भी करता था।

पुलिस उदयन के हर दावे की पड़ताल में लगी हुई है। उसके कॉल डिटेल्स को भी निकाल रही है। यह कहा जा रहा है कि आकांक्षा की हत्या उसने दिसंबर, 2016 के अंतिम सप्ताह में ही कर दी थी। उदयन के पास एक मकान साकेत नगर, तो दूसरा अरेरा कॉलोनी में है। इसके अलावा मंडीदीप, रायसेन और सीहोर भी संपत्तियां हैं।