डिजिलेप डिजिटल लर्निंग में रायसेन जिला प्रदेश में प्रथम स्थान

रायसेन। डिजिलेप डिजिटल लर्निंग में रायसेन जिला प्रदेश में प्रथम स्थान पर है। लॉकडाउन के दौरान बच्चों की शिक्षा बाधित न हो इसके लिये हमारा घर हमारा विद्यालय कार्यक्रम के तहत डिजिलेप डिजिटल लर्निंग शुरू की गई है। डिजिलेप डिजिटल लर्निंग में रायसेन जिले के 50 हजार से अधिक छात्र-छात्राएं शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं। इस कार्यक्रम तहत जिले के 65 फीसदी शिक्षक अध्यापन कर रहे हैं।

सर्वशिक्षा अभियान के परियोजना समन्वयक विजय कुमार नेमा ने बताया कि कलेक्टर उमाशंकर भार्गव द्वारा ‘‘हमारा घर हमारा विद्यालय‘‘ कार्यक्रम की नियमित समीक्षा और सतत मानीटरिंग का ही नतीजा है कि प्रदेश में रायसेन जिला प्रथम स्थान पर है। मप्र स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा लॉकडाउन के समय में बच्चों के नियमित अध्यापन के लिये डिजिलेप व्हाट्सएप ग्रुप के द्वारा बच्चों को शिक्षा देने की व्यवस्था की गई है।

डिजिलेप डिजिटल लर्निंग के तहत कक्षावार व्हाट्सएप ग्रुप पर कक्षा के अनुरूप प्रत्येक कक्षा के छात्रों के लिये पठन-पाठन सामग्री व अन्य जानकारी नियमित उपलब्ध कराई जा रही है। इसमें सभी पालक प्रतिदिन प्रात: 10 बजे स्वयं बच्चों के साथ इस ग्रुप से आवश्यक जानकारी प्राप्त कर रहे हैं।

इसमें मात्र कुछ ही मिनिट में बहुत सी जानकारी पालक व बच्चों को मिल जाती है। स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा सभी पालकों से आग्रह किया गया है कि वे घर पर मिले समय को व्यर्थ न जाने दें और बच्चों के ज्ञान के स्तर को निरन्तर बढ़ाने में अपनी सहभागिता निभायें। जो पालक व्हाट्सएप ग्रुप से नहीं जुडे हैं वे अपने स्थानीय शिक्षक से अथवा परिचित से सम्पर्क कर व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ सकते हैं।