नोटबंदी को दिग्विजय सिंह ने बताया सोची-समझी चाल, कम्प्यूटर बाबा पर कार्रवाई की निंदा की

भोपाल। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा देश में चार साल पहले आज के ही दिन नोटबंदी की थी। नोटबंदी के चार वर्ष पूर्ण होने पर सभी राजनेता अपनी-अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता, मप्र के पूर्व मुख्यमंत्री और राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए नोटबंदी को सोची-समझी चाल बताया है। वहीं, इंदौर में रविवार को कम्प्यूटर बाबा के आश्रम पर जिला प्रशासन द्वारा की गई अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई की उन्होंने निंदा की है।

दिग्विजय सिंह ने रविवार को ट्वीट के माध्यम से नोटबंदी पर अपनी प्रतिक्रिया दी। उन्होंने लिखा है कि – ‘पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह ने सही कहा था कि नोटबंदी देश का सबसे बड़ा घोटाला साबित होगा। नोटबंदी के चार साल बाद बाजार में नोटों के सर्कुलेशन में लगभग 50 प्रतिशत इजाफा हुआ है। उन्होंने कहा कि यह राशि लगभग सात-आठ लाख करोड़ रुपये बनती है और यह कहां है।

उन्होंने एक दूसरे ट्वीट के माध्यम से इंदौर में कंप्यूटर बाबा के आश्रम के मामले में प्रशासनिक कार्रवाई की निंदा करते हुए इसे राजनीतिक प्रतिशोध की कार्रवाई बताया। उन्होंने आरोप लगाया है कि कंप्यूटर बाबा का आश्रम नोटिस दिए बगैर तोड़ा गया। कंप्यूटर बाबा पिछले कुछ सालों से राजनैतिक गतिविधियों में सक्रिय थे और उन्होंने चुनावों के दौरान कांग्रेस के पक्ष में प्रचार किया था। इसीलिए उनके खिलाफ यह कार्रवाई की गई है।