केंट और नगर निगम के बीच विवाद

जबलपुर@ केंटोन्मेंट एरिया में नगर निगम (जेएमसी) की जेसीबी मशीन देख हंगामा खड़ा हो गया। पानी के टैक्स को लेकर केंट बोर्ड और जबलपुर नगर निगम के बीच गहराए विवाद के बीच अवैध नल कनेक्शन काटने का अमला पहुंच गया। केंट बोर्ड पार्षदों ने बिना वैधानिक अनुमति लिए केंट सीमा में निगम की कार्रवाई का जमकर विरोध किया। विवाद बढ़ने के कारण पुलिस तक बुलानी पड़ गई।जानकारी के मुताबिक आज सुबह चौथापुल रोड़ स्थित भैंसासुर बाबा के पास बगीचा क्षेत्र में निगम का अमला अवैध नल कनेक्शन काटने पहुंचा था। क्षेत्रीय लोगों की सूचना पर केंट बोर्ड उपाध्यक्ष अभिषेक चौकसे और पार्षद अमरचंद बावरिया मौके पर पहुंच गए। निगम कर्मियों से जब केंट सीमा में कार्रवाई हेतु अनुमति संबंधी जानकारी मांगी गई तो अमला कोई जबाव नही दे पाया। पार्षदों का कहना था कि अवैध नल कनेक्शन की सूची केंट बोर्ड को दी जाए, सीधे जेएमसी को केंट सीमा में कार्रवाई करने का अधिकार नहीं है।

निगम के खंदारी फिल्टर प्लांट से पेयजल आपूर्ति करने वाली मेन राईजिंग लाइन केंट क्षेत्र से होते हुए गोरखपुर तक जाती है। निगम का आरोप है कि उसकी मेन राईजिंग लाइन से पिछले 45 सालों से केंट वासियों ने अवैध नल कनेक्शन कर रखे हैं। लिहाजा केंट बोर्ड उसे हर्जाने के रूप में 50 लाख रूपए दे। वहीं केंट बोर्ड का कहना है कि जिन्होने नल कनेक्शन कर रखे हैं वे आर्थिक रूप से कमजोर परिवार है लिहाजा उन्हें निगम रियायती दरों पर नल कनेक्शन दे। वहीं केंट बोर्ड ने सीमा क्षेत्र से निकली पाइप लाइन के कारण खराब हुई सड़कों का डैमेज चार्ज वसूल करने का पेंच फसा दिया।इस विवाद के बाद निगम के जल विभाग के अधिकारियों की केंट सीईओ की मौजूदगी में बैठक की गई । जिसमें यह तय किया गया कि दोनों विभाग की संयुक्त मुहिम में नल कनेक्शन का सर्वे हो और वैध कनेक्शन देने सामान्य व्यक्ति से 16 सौ और बीपीएल कार्डधारकों  से 30 रुपए लेकर उन्हें वैध किया जाएगा।