Skip to content

रसोई गैस पर मंहगाई की मार, 50 रुपये महंगा हुआ घरेलू LPG सिलेंडर

Tags:
इस ख़बर को शेयर करें:


देश की आम जनता पर महंगाई की मार जारी है। इस बाररसोई गैस की कीमत में इजाफा हुआ है और 14.2 किलोग्राम के LPG सिलेंडर की कीमत 50 रुपये बढ़ा दी गई है। ये डेढ़ महीने में दूसरी बार है जब देश में रसोई गैस की कीमत बढ़ाई गई है। पिछली बार 22 मार्च को भी इसकी कीमत में 50 रुपये का इजाफा किया गया था।
इसके बाद अप्रैल के महीने में कोई इजाफा नहीं किया गया।

किस महानगर में कितनी हुई रसोई गैस की कीमत?
इस वृद्धि के बाद अब दिल्ली में 14.2 किलो के रसोई गैस के सिलेंडर की कीमत 949.50 रुपये से बढ़कर 999.50 रुपये पर पहुंच गई है। इसी तरह मुंबई में इस सिलेंडर की कीमत 999.50 रुपये पर पहुंच गई है। कोलकाता में घरेलू सिलेंडर की कीमत 1,000 के आंकड़े को पार करके 1,026 रुपये हो गई है। वहीं चेन्नई में इसकी कीमत 1,015.50 और लखनऊ में 1,037.50 रुपये हो गई है।

1 मई को बढ़ाए गए थे कमर्शियल सिलेंडर के दाम
बता दें कि देश में कुछ दिन पहले ही कमर्शियल सिलेंडर के दाम बढ़ाए गए थे। 1 मई को 19 किलोग्राम के LPG सिलेंडर की कीमत में 102.50 रुपये की वृद्धि की गई थी।
इसी के साथ दिल्ली में इसकी कीमत 2,253 रुपये से बढ़कर 2355.50 रुपये हो गई है। मुंबई में यह 2,307 रुपये, कोलकाता में 2,455 रुपये और चेन्नई में 2,508 रुपये में मिल रहा है। पांच किलो के सिलेंडर की कीमत 655 रुपये हो गई है।

मार्च-अप्रैल में 10 रुपये प्रति लीटर महंगे हो चुके हैं पेट्रोल-डीजल
बता दें कि पिछले कुछ महीनों में LPG के साथ-साथ पेट्रोल-डीजल की कीमतों में वृद्धि हुई है। 137 दिन बाद 22 मार्च को पहली बार कीमत बढ़ने के बाद से अब तक कीमतों में 10 रुपये प्रति लीटर का इजाफा हो चुका है। आखिरी बार 6 अप्रैल को पेट्रोल-डीजल की कीमतों में वृद्धि की गई थी। इसके बाद से कीमत नहीं बढ़ी है। दिल्ली में अभी पेट्रोल 105.41 रुपये और डीजल 96.67 रुपये प्रति लीटर बिक रहा है।

क्यों बढ़ रही कीमतें?
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने यूक्रेन और रूस के बीच जारी युद्ध के कारण ईंधन की कीमतों में वृद्धि की बात कही है। उन्होंने कहा कि युद्ध के कारण कच्चे तेल की कीमत बढ़ी है। कीमतों को नियंत्रित करने के लिए सरकार रूस से सस्ता तेल भी खरीद रही है। हालांकि युद्ध ईंधन की कीमतें बढ़ने का एकमात्र कारण नहीं है और इसका एक कारण बड़ी मात्रा में टैक्स भी है, जो सरकारें उस पर लगा रही हैं।