आठ घंटे के अंदर एक बाघ और एक तेंदुए की मौत

होशंगाबाद। वन विभाग की तमाम कोशिशों के बावजूद प्रदेश में बाघों की मौत का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा हैं। गुरूवार को आठ घंटे के अंदर एक बाघ और एक तेंदुए की मौत ने जानवरों की सुरक्षा पर बड़े सवाल खड़े कर दिए हैं। मिडघाट रेल सेक्शन में आठ घंटे के अंदर एक टाइगर और एक तेंदुआ का शव मिलने से वन विभाग में हड़कंप मच गया है। टाइगर का शव संदिग्ध अवस्था में रेलवे ट्रैक के करीब एक पानी की झोर के पास मिला।

वही तेंदुआ रेलवे ट्रैक पर मृत मिला है। वन विभाग के अधिकारियों ने देर शाम दोनों जानवरों के शवों का अंतिम संस्कार कराया हैं। मिडघाट रेल सेक्शन में पिछले छह महीने में लगातार टाइगर और तेंदुआ की मौत हो रही हैं। वन विभाग ने जानवरों को रेलवे ट्रैक पर जाने से रोकने के लिए लोहे की जाली लगाई लेकिन वह कारगर नहीं हो रही है।

इसके बाद भी लगातार घटनाएं हो रही हैं। आर पी यादव ए एस आई आरपीएफ होशंगाबाद का कहना हैं कि तेंदुआ का शव रेलवे ट्रैक पर मिला है। उसकी मौत ट्रेन से टकराने से हुई है। जबकि एस के सिंह एसडीओ बुदनी के अनुसार टाइगर की मौत स्वभाविक है। उसका परीक्षण किया गया है। इस दौरान सभी अधिकारी मौजूद थे।