मोस्ट वांटेड आरोपी विकास दुबे का हुआ एनकाउंटर

उत्तर प्रदेश के कानपुर से बड़ी खबर आ रही है. यहां यूपी एसटीएफ (UP STF) के काफिले की कार दुर्घटनाग्रस्त हो गई है. ये वही काफिला है, जिसमें मध्य प्रदेश से गिरफ्तार मोस्ट वांटेड अपराधी विकास दुबे सवार था. पता चला है कि विकास दुबे जिस गाड़ी में सवार था, वही हादसे का शिकार हुई है. बर्रा थाना क्षेत्र के पास की ये घटना है. दुर्घटना में कार पलट गई है. सूत्रों की मानें तो इसके बाद विकास दुबे ने भागने की कोशिश की और मुठभेड़ में मारा गया. जानकारी के मुताबिक, विकास दुबे के शव को मुठभेड़ के बाद हैलट अस्‍पताल में रखा गया है. एसएसपी और अस्‍पताल के डॉक्‍टरों ने विकास दुबे के मारे जाने की पुष्टि की है. कानपुर के आईजी मोहित अग्रवाल ने भी गैंगस्‍टर विकास दुबे के मारे जाने की पुष्टि कर दी है.

विकास ने कर दी फायरिंग

एसएसपी ने बताया कि गैंगस्‍टर विकास दुबे को ला रही गाड़ी पलट गई थी. वह किसी तरह बाहर निकला और घायल सिपाहियों की पिस्‍टल छीनकर भागने लगा. एसटीएफ के जवानों ने तब मोर्चा संभाल लिया. वहीं, वेस्‍ट कानपुर के एसपी ने बताया कि विकास दुबे को सरेंडर करने को कहा गया था, लेकिन उसने फायरिंग शुरू कर दी. जवाबी फायरिंग में वह मारा गया. दूसरी तरफ, एसएसपी ने 4 सिपाहियों के घायल होने की भी बात कही है.

पता चला है कि गाड़ी पलटने के बाद घायल एसटीएफ के पुलिसकर्मियों की पिस्टल छीन कर विकास दुबे ने भागने की कोशिश की. इस दौरान साथ में वाहन चल रहे थे, उसमें पुलिस टीम ने विकास दुबे पर जवाबी फायरिंग की. सूत्रों के अनुसार विकास दुबे गंभीर रूप से घायल हुआ है. उसे अस्पताल ले जाया गया है. पुलिस सूत्रों के अनुसार खराब मौसम के कारण गाड़ी पलटी और उसके बाद ये घटना हुई. पता चला है कि गाड़ी में विकास बीच में बैठा था, उसके अगल-बगल में कमांडो बैठे थे. खबर आ रही है कि गोली लगने से बुरी तरह घायल विकास दुबे की मौत हो गई है.

मीडिया सूत्रों के अनुसार सुबह 6:30 बजे बउदी के पास गाड़ी दुर्घटना ग्रस्त हुई। जिसमें विकास दुबे पिस्तौल छीन कर भागने की कोशिश कर रहा था। मुठभेड़ में विकास दुबे के सीने पर गोली लगी। जहां से उसे अस्पताल ले जाया गया. जहां उसकी मौत हो गई. इसके साथ ही जो एसटीएफ के 2 जवान भी घायल हुए हैं. इस मामले में अभी पुलिस का आधिकारिक बयान आना बाकी है फिलहाल पुलिस अस्पताल में है.

कानपुर के एसपी वेस्ट डॉ. अनिल कुमार ने बताया
पुलिस वाहन पलटने के बाद पुलिस की पिस्टल छीन कर विकास दुबे भागने लगा। एसकार्ट में पीछे लगी गाडिय़ों में तैनात कानपुर एसटीएफ और पुलिस के जवानों ने घेराबंदी की और विकास को सरेंडर करने को कहा, लेकिन वह नहीं माना और पुलिस पर फायरिंग करने लगा। जवाबी कार्रवाई में गोली लगने से घायल विकास की हैलट अस्पताल में मौत हो गई।

विकास दुबे के शव का पोस्टमार्टम होने से पहले कोरोना टेस्ट कराया जाएगा

कानपुर के बिकरू गांव में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या का मुख्य आरोपी 5 लाख का इनामी विकास दुबे एनकाउंटर में मारा गया। यूपी एसटीएफ की टीम विकास दुबे को लेकर जैसे ही कानपुर पहुंची, विकास गाड़ी में सुरक्षाकर्मियों की पिस्टल छीनने लगा। इसी बीच संतुलन बिगड़ने के बाद गाड़ी पलट गई। गाड़ी पलटते ही विकास पुलिस पर फायरिंग कर भागने लगा। सुरक्षाकर्मियों ने भी अपने बचाव में गोलियां चलाईं। मुठभेड़ में विकास गंभीर रूप से घायल हो गया। सुरक्षाकर्मी उसे लेकर हैलट अस्पताल पहुंचे जहां डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। विकास दुबे के शव का पोस्टमार्टम होने से पहले कोरोना टेस्ट कराया जाएगा।

उज्‍जैन में हुआ था गिरफ्तार

यूपी का मोस्ट वॉन्टेड अपराधी विकास दुबे को उज्जैन में गिरफ्तार किया गया था. मध्‍य प्रदेश पुलिस ने उसे यूपी पुलिस को सौंप दिया था. उसे सड़क मार्ग से यूपी एसटीएफ की टीम कानपुर ला रही थी. इससे पहले गुरुवार को एक व्यक्ति ने खुद को यूपी का मोस्ट वांटेड अपराधी विकास दुबे बताने लगा था. बताया जा रहा है कि महाकाल मंदिर परिसर में पहुंच कर यह शख्स चिल्ला-चिल्ला कर ख़ुद को विकास दुबे बता रहा था. उसे फौरन मंदिर परिसर में तैनात सुरक्षा गार्ड ने पकड़ लिया और पुलिस को इसकी सूचना दी थी. जिसके बाद महाकाल थाना पुलिस उसे गाड़ी मे बैठाकर कंट्रोल रूम की तरफ रवाना हो गयी. पुलिस ने जब शख्‍स को पकड़ा तो चिल्‍लाने लगा- मैं विकास दुबे हूं कानपुर वाला.