2018 में भारत की वृद्धि दर 7.6% रहने का अनुमान: मूडीज

इस ख़बर को शेयर करें:

वैश्विक रेटिंग एजेंसी मूडीज ने साल 2018 में भारत की वृद्धि दर 7.6% रहने का अनुमान जताया है। वर्ष 2019 के लिए उसका आकलन 7.5% वृद्धि रहने का है। इसकी वजह जीएसटी और नोटबंदी से प्रभावित हुई अर्थव्यवस्था में सुधार होना है। मूडीज का कहना है कि भारतीय अर्थव्यवस्था में सुधार के संकेत दिखाई दे रहे हैं जो वर्ष 2016 में नोटबंदी के निर्णय से नकारात्मक तौर पर प्रभावित हुई थी और पिछले साल माल एवं सेवाकर यानी जीएसटी को लागू किए जाने से उसकी वृद्धि में बाधा आई थी। ग्‍लोबल रेटिंग एजेंसी मूडीज ने पिछले साल नवंबर में करीब 13 साल बाद भारत की रेटिंग Baa3 से बढ़ाकर Baa2 कर दी है। इससे पहले मूडीज ने 2004 में भारत की रेटिंग अपग्रेड की थी।

भारत की चमकती अर्थव्यवस्था का दुनिया भर में डंका बज रहा है । देश ही नहीं तमाम अंतरराष्ट्रीय एजेंसियां भी भारत की विकास की कहानी को अब स्वीकार कर रही हैं । वैश्विक रेटिंग एजेंसी मूडीज इन्‍वेस्‍टर्स सर्विस ने साल 2018 में भारत की वृद्धि दर 7.6% रहने का अनुमान जताया है। वर्ष 2019 के लिए उसका आकलन 7.5% की वृद्धि दर रहने का है।

मूडीज का कहना है कि जीएसटी और नोटबंदी से प्रभावित हुई अर्थव्यवस्था में सुधार हो रहा है और आने वाले समय में इसका प्रभावी असर दिखेगा । मूडीज ने केंद्र सरकार की तमाम नीतियों की भी सराहना की है । सरकार के बजट प्रावधानों और बैंकिंग क्षेत्र की मदद के लिए उठाए गए कदमों का स्वागत करते हुए मूडीज ने कहा है ।

साल 2018-19 के लिए प्रस्तावित बजट में कई ऐसे कदम उठाए गए हैं जो ग्रामीण अर्थव्यवस्था को स्थिरता दे सकते हैं। नोटबंदी से सबसे ज्यादा यही क्षेत्र प्रभावित हुआ था जैसा हमने पहले कहा था कि बैंकों में फिर से पूंजी डालने की योजना से एक समय के बाद ऋण वृद्धि में मदद मिलेगी और यह आर्थिक वृद्धि को सहारा देगा।’

ग्‍लोबल रेटिंग एजेंसी मूडीज ने पिछले साल नवंबर में करीब 13 साल बाद भारत की रेटिंग Baa3 से बढ़ाकर Baa2 कर दी है। इससे पहले मूडीज ने 2004 में भारत की रेटिंग अपग्रेड की थी। मूडीज ने कहा था कि आर्थिक और संस्थानिक सुधारों की वजह से देश का आर्थिक विकास परिदृश्य लगातार सुधर रहा है । साथ ही उसने कहा था कि सुधारों की वजह से ही कर्ज के बढते बोझ को भी स्थिर करने में मदद मिलेगी ।

मंगलवार को पीएम ने भी एक कार्यक्रम में कहा था कि जल्द ही भारत सकल घरेलू उत्पाद के आधार पर विश्व की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएंगा साथ ही उन्होंने कहा कि भारत हम आज विश्व में सबसे तेजी से वृद्धि करती प्रमुख अर्थव्यवस्था भी हैं। कुल मिलाकर सरकार के तमाम कदमों से अर्थव्यस्था लगातार प्रगति कर रही है और आने वाले दिनों में दुनिया में इसका और डंका बजेगा ।