नकली पुलिस बनकर ढाई लाख की मांग करने वाले हुए गिरफ्तार

जबलपुर@ पुलिस की वर्दी पहनकर खुद को क्राइम ब्रांच का इंस्पेक्टर बताने वाले युवकों ने पुलिसिया अंदाज में एक युवक को ऐसी दम पटकी कि वह उनके सामने गिड़गिड़ाने लगा कि, साहब मैंने तो कोई अपराध किया ही नही तो उन्होंने कहा कि ठीक है, नहीं किया तो भी साहब को रुपए तो देने ही पड़ेंगे नहीं तो फर्जी प्रकरण बनाकर जेल भेज देंगे- यह झांसा देने वाले नकली पुलिस वालों को पुलिस ने 48 घंटे के अंदर दबोच लिया।

एसपी महेंद्र सिंह सिकरवार ने बताया कि मदनमहल थाना क्षेत्र आमनपुर में रहने वाले 26 वर्षीय अंकित दुबे के घर 12 फरवरी की रात 2 बजे पल्सर बाइक क्रमांक MP20KN – 8018 में वर्दी पहने 2 फर्जी पुलिस वाले पहुंचे और एएसपी क्राइम की धौंस बताते हुए ढाई लाख रूपए जल्द से जल्द देने की बात कहते हुए अंकित का मोबाइल ले लिया। ठगों ने अंकित को 6 घंटे का समय देने के बाद 13 फरवरी को मोबाइल से कॉल करते हुए धमकाया कि रूपए दे दो नहीं तो जेल जाने तैयार रहो। शक होने पर अंकित ने 14 फरवरी को एसपी से शिकायत कर पूरे मामले से अवगत कराया था।

पुलिस के मुताबिक दोनों युवक खुद को जम्मू एंड कश्मीर राइफल्स रेजीमेंट (जैक) के बैंड दल में कार्यरत बता रहे हैं। पुलिस गिरफ्त में आए अनिल कुमार सिंह और टिकेंद्र सिंह निवासी मूलत: मणीपुर हाल निवासी सदर गली नंबर 1 ने पूछताछ में बताया कि वह उन्होने अंकित दुबे से ढाई लाख रुपयों की मांग की थी। अनिल कुमार खुद को मणीपुर पुलिस में सब इंस्पेक्टर होना भी बता रहा है। पुलिस ने आर्मी से मामला जुड़ने के बाद इंटेलिजेंस सहित आर्मी अधिकारियों को पूरे मामले की जानकारी दी है।