किसान खेत पर बना सकेंगे कोल्ड स्टोरेज

इस ख़बर को शेयर करें:

जबलपुर @ उद्यानिकी, खाद्य प्रसंस्करण स्वतंत्र प्रभार एवं नर्मदा घाटी विकास राज्य मंत्री भारत सिंह कुशवाह ने कहा की कोल्ड स्टोरेज के विकेंद्रीकरण की प्रक्रिया को अपनाने पर हर जरूरतमंद किसान को कोल्ड स्टोरेज बनाने का अवसर मिलेगा। अभी तक बड़ी मंडियों के पास और जिला स्तर पर 5000 मीट्रिक टन क्षमता के कोल्ड स्टोरेज बनाने में सहयोग मिलता है। अब विभाग की नई नीति के तहत छोटी मंडियों के पास विकासखंड स्तर पर एक हजार और उद्यानिकी फसलों के उत्पादन से जुड़े किसानों के खेत पर 5 मीट्रिक टन क्षमता तक के कोल्ड स्टोरेज बनाने में किसानों को सहयोग दिया जायगा।

किसान का अपने खेत पर कोल्ड स्टोरेज होगा और वह उद्यानिकी फसलों को खुद सुरक्षित रख सकेगा। यह निर्णय उद्यानिकी फसलों को बढ़ावा देने और किसानों के कल्याण को देखते हुए लिया गया है। मंत्रालय में आयोजित बैठक में राज्य मंत्री कुशवाहा ने अधिकारियों को योजना का अंतिम प्रारूप बनाने के निर्देश दिए। राज्य मंत्री कुशवाह ने कहा कि योजना में ऐसे प्रावधान रखे जाएं जिसमें जो किसान उद्यानिकी फसलों के उत्पादन से जुड़े हैं और वे अपनी फसलों का स्टोरेज करना चाहते हैं, उन्हें कोल्ड स्टोरेज बनाने में मदद की जा सके। योजना में विज्ञापन जारी कर ऑनलाइन आवेदन बुलाकर किसानों का चयन किया जाए। योजना को पूरी तरह से पारदर्शी बनाने के लिए भी उन्होंने अधिकारियों को कहा। मंत्रालय में आज आयोजित बैठक में विभाग की अन्य योजनाओं की भी समीक्षा की गई। बैठक में वरिष्ठ विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।