वित्त मंत्री ने भारत की रेटिंग में सुधार के मूडीज़ के क़दम का किया स्वागत

इस ख़बर को शेयर करें:

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने मूडीज़ द्वारा भारत की रेटिंग बढ़ाने का स्वागत किया है. जेटली ने कहा कि रेटिंग में सुधार आर्थिक मोर्चे पर भारत द्वारा उठाए जा रहे क़दमों और सुधारों का नतीज़ा है.

वित्त मंत्री ने कहा कि ये जताता है कि विमुद्रीकरण, जीएसटी और आधार जैसे ऐतिहासिक क़दमों को अंतरराष्ट्रीय मान्यता मिली है. उन्होंने कहा कि बढ़ी हुई रेटिंग पिछले कुछ वर्षों में सरकार द्वारा उठाए गए सुधारात्मक कदमों का परिणाम है.

जेटली ने कहा कि विमुद्रीकरण और दूसरे कदमों की मदद से भारतीय अर्थव्यवस्था को अधिक डिजिटल और फॉर्मल बनाने में मदद मिली, जिसे आज दुनियाभर में मान्यता मिल रही है. वित्त मंत्री ने कहा कि जीएसटी भारतीय व्यव्स्था में ऐतिहासिक सुधार की दिशा में सरकार द्वारा उठाया गया एक बड़ा क़दम है. सरकार के इस क़दम से आने वाले दिनों में काफी फ़ायदा होगा.

गौरतलब है कि अमेरिका की क्रेडिट रेटिंग एजेंसी मूडीज़ ने भारत की सॉवरोन क्रेडिट रेटिंग बढ़ाकर बीएए-2 कर दी है. मूडीज़ ने उम्मीद जताई है कि आर्थिक मोर्चे पर किए गए सुधार भारत के सतत विकास को गति देने का काम करेंगे. एजेंसी ने भारत की इस रैंकिंग में 13 वर्षों के बाद सुधार किया है. 2004 में मूडीज़ ने भारत की रेटिंग बीएए-3 की थी. 2015 में संस्था ने भारत की क्रेडिट रेटिंग को ‘स्थिर’ से बढ़ाकर ‘सकारात्मक’ कर दिया था.

‘बीएए3’ न्यूनतम निवेश श्रेणी की रेटिंग थी जो ‘जंक’ दर्जे से थोड़ी ही ऊपर है. एजेंसी ने बयान जारी कर कहा है कि भारत की रैंकिंग में सुधार इस आशा के साथ किया गया है कि आर्थिक और संस्थागत सुधार जारी रहेंगे और आने वाले समय में भारतीय अर्थव्यवस्था में तेज़ी आएगी. साथ ही एजेंसी ने कहा है कि भारत का आर्थिक ढांचा काफी मज़बूत है. जिसके चलते मध्यावधि में सरकार पर कर्ज का बोझ भी कम होगा.

दरअसल मूडीज़ प्रतिभूतियों में निवेशकों के जोखिम का मूल्यांकन करने के लिए सूचना एकत्रित करने वाली अंतरराष्ट्रीय एजेंसी है. इसकी रेटिंग के बारे में समिति निर्णय करती है. इसके साथ ही यह रेटिंग में होने वाले किसी बदलाव की निगरानी करती है. रेटिंग निर्धारित करने वाली समिति में कम से कम मूडीज़ के प्रबंध निदेशक और एक प्रख्यात विश्लेषक शामिल होते हैं.

मूडीज द्वारा भारत सरकार के बॉन्ड की सॉवरेन रेटिंग बढ़ाने के फ़ैसले का सभी ने स्वागत किया है. प्रधानमंत्री कार्यालय की तरफ से जारी ट्वीट में कहा गया है कि मूडीज ने 2004 के बाद पहली बार भारत की सॉवरेन रेटिंग को बढ़ाया है. मूडीज का मानना है कि नरेंद्र मोदी सरकार के सुधारों से कारोबारी माहौल में सुधार होगा, उत्पादकता में वृद्धि होगी, विदेशी-घरेलू निवेश को प्रोत्साहन मिलेगा, साथ ही मज़बूत और सतत विकास को बढ़ावा मिलेगा.

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि मूडीज का मानना है कि मोदी सरकार के सुधारों से कारोबारी माहौल में सुधार होगा, उत्पादकता में वृद्धि होगी, अधिक निवेश आकर्षित होगा और भारत उच्च विकास पथ पर आगे बढ़ेगा. मोदी सरकार द्वारा किए गए सुधारों और भारत की विकास क्षमता के प्रति मूडीज आशावान है.

केंद्रीय सूचना प्रसारण मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा है कि यह रेटिंग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा किए गए बड़े आर्थिक और संस्थागत सुधारों को दर्शाती है. केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने मूडीज की रेटिंग का स्वागत करते हुए कहा कि दुनिया के सामने भारत का एक बदला हुआ चेहरा सामने आ रहा है.

केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नक़वी ने कहा कि आज देश के हालात पहले से काफी बेहतर हुए हैं और मूडीज़ की रेटिंग इस बात को और ज्यादा पुख्ता करती है कि किस तरह देश की अर्थव्यवस्था मज़बूत हुई है और भारत निवेश के लिए एक सुरक्षित ठिकाना है.

केंद्रीय गृह राज्यमंत्री हंसराज अहीर ने कहा मूडीज़ की रेटिंग आने के बाद विपक्ष को राजनीति करने से परहेज़ करना चाहिए. सरकार के मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यम ने कहा कि मूडीज की रेटिंग एक स्वागत योग्य कदम है और ये काफी लंबे समय से प्रतीक्षित था.