निर्माण कार्यो में लापरवाही पर एफआईआर दर्ज कर गिरफ्तारी करने की चेतावनी

फ़ैज़ाबाद: जिलाधिकारी संतोष कुमार राय ने कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित विकास कार्यो से संबंधित निर्माण कार्यो की विस्तृत समीक्षा में निर्माण कार्यो में गुण्वत्ता, समयबद्धता के अभाव को देखते हुए कार्यदायी संस्था के प्रोजेक्ट मैनेजरों को सख्त चेतावनी देते हुए सुधार न पाये जाने पर उनके विरूद्ध एफआईआर दर्ज कर गिरफ्तारी करने की चेतावनी दी। उन्होंने कहा कि आम जनता के हितों से जुड़े निर्माण कार्यो में लापरवाही व हीलाहवाली बर्दाश्त नहीं की जायेगी। इसके साथ संबंधित अधिकारी बैठक में समय से उपस्थित होकर वांछित जानकारी दे अन्यथा उनके विरूद्ध सख्त कार्यवाही की जायेगी।

जिलाधिकारी श्री राय ने कहा कि विकास कार्यो की समीक्षा बैठक प्रत्येक माह के प्रथम सप्ताह में होती है। अतः सभी अधिकारी अपने विभाग की सूचना माह समाप्ति के उपरान्त एक तारीख को अनिवार्य रूप से दे दे अन्यथा जिला अर्थ एवं संख्याधिकारी उनकी तरफ से एक चेतावनी पत्र सम्बन्धित अधिकारी को जारी कर दे, स्थिति में सुधार न आने पर प्रतिकूल प्रविष्ट दे दी जायेगी।

जिलाधिकारी ने पार्को की सुन्दरता की बरकरार रखने के लिए इसमें मेले आदि आयोजित किए जाने की अनुमति न दी जाये। उन्होंने कहा कि जितने अधिकारियों की ड्यूटी मिड डे मील व ऑगनवाड़ी केन्द्रो में पुष्टाहार वितरण की जॉच में लगी है वे यथाशीघ्र इसकी जॉच कर रिर्पोट उन्हें प्रेषित करें। जनपद में 73 ऑगनवाड़ी केन्द्र बनने हैं, जितने केन्द्र के लिए भूमि नहीं मिली हैं वे इस सम्बन्ध में अवगत कराते हुए निर्माण कार्य प्रारम्भ कराये। जिलाधिकारी ने पैक्सफैड समेत कई कार्यदायी संस्थाओ को चेतावनी देते हुए कहा कि वे अपने कार्यो को निर्धारित समय सीमा में पूरा कराये अन्यथा उन्हें ब्लैक लिस्टेट कराते हुए भविष्य में जनपद में कोई कार्य नही दिया जायेगा।

ग्राम्य स्वास्थ्य योजना के तहत बच्चो के हेल्थ कार्ड बनाये जाये तथा स्कूलों व ऑगनवाड़ी केन्द्रो में साफ-सफाई के साथ वजन मशीन व डिजीटल थर्मामीटर भी रखे जाये। जनपद में मृात शिशु दर, शिशु मृत्यु, जन्म दर को राजकीय औसत के अनुरूप रखने के निर्देश दिये हैं। इसके साथ ही जननी सुरक्षा योजना तथा आशाओं का भुगतान निर्धरित समय सीमा में किया जाये। जिलाधिकारी ने कहा कि जितने भी विकास कार्य चालू है और किन्ही कारणो से रूके पड़े है उन्हें शीर्ष प्रथमिकता पर पूरा कराये जिससे आम जनता को इन योजना को लाभ मिल सके।इसके लिए पत्राचार के साथ सम्बन्धित अधिकारी की उनसे वार्ता कराये।

उन्होंने कड़ा रोष व्यक्त करते हुए बड़े-बड़े निमार्ण कार्यो से सम्बन्धित अधिकारी अपने कार्यो का फील्ड पर जाकर मुआयना नहीं करते है जो ठीक नहीं हैं, सभी अधिकारी व अभियन्तागण अपने कार्यो की फील्ड में जाकर प्रगति, गुणवत्ता व सामग्री की क्वालिटी की जॉच कर रिर्पोट उन्हें उपलब्ध कराये। सीवरेज व पेयजल के कार्यो में ढिलाई बर्दाश्त नहीं की जायेगी। अभियन्ता व अधिकारीगण आधे अधूरे प्रोजेक्ट न बनाये।

जिलाधिकारी ने राज्य सेतु निगम, पी.डब्लू.डी., विद्युत, आपूर्ति विभाग, नालो की सफाई, पाइप पेयजल योजना, विभिन्न पेंशन योजना, श्रम विभाग, वन विभाग, कौशल विकास, मनरेगा, पर्यटन, स्वास्थ्य विभाग आदि की योजनाओं की समीक्षा करते हुए आवश्यक निर्देश दिये। बैठक में सीडीओ रवीश गुप्ता, डीएफओ डा0 रविकान्त सिंह, सीएमओ ए.के. गुप्ता, पी.डी.डी.आर.डी.ए. ए0के0 मिश्र, डी.डी.ओ. हवलदार सिंह समेत अन्य सम्बन्धित अधिकारी व अभियन्तागण उपस्थित थे।