पहाड़ों में ताजा बर्फबारी से बढ़ी मुश्किलें

कश्मीर, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड जैसे पहाड़ी राज्यों में जहां बर्फबारी कहर बरपा रही है तो वहीं उत्तरी मैदानी राज्यों में शीतलहर ने लोगों का जीना मुहाल कर दिया है। कुछ राज्यों में हो रही बारिश ने भी लोगों की मुश्किलें बढ़ा दी हैं। मौसम विभाग ने फिलहाल ठंड के असर में कमी न आने के संकेत दिए हैं।

अनंतनाग, श्रीनगर, पटनीटॉप, शिमला जम्मू-कश्मीर से लेकर उत्तराखंड तक पहाड़ी राज्यों में बर्फबारी कहर बनकर टूटी है। पर्यटक भले ही बर्फबारी के चलते खुश हों, लेकिन बिजली, पानी जैसी बुनियादी सुविधाओं की दिक्कत के चलते लोगों को भारी मुश्किलों का भी सामना करना पड़ रहा है।

जम्मू-कश्मीर की राजधानी श्रीनगर और घाटी के दूसरे इलाकों में सुबह हुई हिमपात के बाद जनजीवन प्रभावित हो गया। बर्फबारी के बाद सड़कों पर कई इंच तक बर्फ जमने के कारण यातायात प्रभावित हुआ है और लोगों को पैदल चलने में भी दिक्कतों का सामना करना पड रहा है। बिजली और डिश टीवी की सेवाओं पर भी हिमपात का असर पड़ा है। श्रीनगर-जम्मू हाइवे भी बर्फबारी के चलते बंद हो गया है। हिमपात और कड़कड़ाती ठंड के कारण ज्यादातर लोग घर से बाहर नहीं निकल रहे हैं।

हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला सहित राज्य के ऊपरी इलाकों मनाली, कुफरी, नरकंडा में ताजा हिमपात तथा निचले क्षेत्रों में लगातार बारिश होने के कारण प्रदेश में ठंड काफी बढ़ गई है। शिमला में दस, कुफरी में 15 और नरकंडा में 20 सेमी बर्फ गिरी है।

लाहौल-स्फीति जिले के प्रवेशद्वार माने जाने वाले रोहतांग दर्रा इलाके में 40 सेंटीमीटर से भी अधिक बर्फबारी हुई। लाहौल घाटी में अब तक का सबसे अधिक हिमपात हुआ है। बर्फबारी से घाटी की सभी अंदरूनी सड़कें बंद हो गई हैं। लाहौल-स्फीति ज़िले के ही केयलांग और किन्नौर जिले के कल्पा में भी हिमपात हुआ।

वहीं शिमला, सोलन, सिरमौर, बिलासपुर, हमीरपुर, मंडी और कुल्लू जिलों में रविवार रात से लगातार बारिश हो रही है। बर्फबारी से लोगों को काफी मुश्किलें हो रही हैं।

उत्तराखंड में मौसम के तेवर में कोई कमी नहीं दिख रही है। चोटियों पर बर्फबारी तो मैदानी क्षेत्रों में हो रही बूदांबादी से पूरा प्रदेश सर्दी की चपेट में है। बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री के अलावा कुमाऊं में पिथौरागढ़ की पहाड़ियों पर बर्फबारी का क्रम जारी है।

दिल्ली में सोमवार को लोगों को ठंड से थोड़ी राहत मिली। न्यूनतम तापमान सामान्य से दो डिग्री अधिक 8.9 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। सुबह कई इलाकों में हल्का कोहरा छाया रहा। 17 ट्रेनों के कई घंटे देरी से चलने और छह ट्रेनों के समय में परिवर्तन किए जाने से रेल यातायात प्रभावित रहा।

राजस्थान में न्यूनतम तापमान में इजाफ़े से लोगों को कड़ाके की सर्दी से राहत मिली है। हालांकि ठंडी हवाएं चलने से सर्दी का असर बना हुआ है। वहीं पंजाब और हरियाणा के कुछ इलाक़ों में बारिश होने के चलते ठंड और भी बढ़ गई है। ठंडी हवाओं ने लोगों का घर से बाहर निकलना भी मुश्किल कर दिया है।