भारत की पहली महिला डॉक्टर आनंदी गोपाल जोशी की 153वीं जयंती पर गूगल ने डूडल के जरिए दी श्रद्धांजलि

इस ख़बर को शेयर करें:

भारत की पहली महिला डॉक्टर आनंदी गोपाल जोशी की 153वीं जयंती पर गूगल ने उन्हें अपने खास अंदाज में श्रद्धांजलि दी है। आनंदी गोपाल जोशी का जन्म 31 मार्च 1865 को महाराष्ट्र में हुआ था। आनंदी गोपाल जोशी डॉक्‍टरी की डिग्री लेने वालीं पहली भारतीय महिला थीं। आनंदीबाई मेडिकल क्षेत्र में शिक्षा पाने के लिए अमेरिका गईं और साल 1886 में सिर्फ19 साल की उम्र में MD की डिग्री हासिल कर ली। वो एमडी की डिग्री पाने वाली पहली भारतीय महिला डॉक्‍टर बनीं।

आनंदी गोपाल जोशी का जीवन साहस और दृढ़ता का सफर रहा । उनकी शादी 9 साली की उम्र में गोपलाराव नाम के शख्स के साथ कर दी गई जो उनसे उम्र में 20 साल बड़े थे। 14 साल की उम्र में उन्होंने एक लड़के को जन्म दिया, लेकिन उसकी उचित चिकित्सा देखभाल की कमी के कारण जल्दी मौत हो गई। कहते हैं यहीं से आनंदी गोपाल जोशी की जिंदगी में एक अहम मोड़ आया जिससे उनकी मेडिसिन में रुचि जागी। इसके बाद गोपालराव ने आनंदी को अध्ययन के लिए प्रोत्साहित किया और 16 साल की उम्र में उन्हें अमेरिका भेज दिया।

उन्होंने यहां के महिला मेडिकल कॉलेज ऑफ पेंसिलवेनिया से मेडिकल की डिग्री हासिल की। डिग्री लेने के बाद वह भारत में महिलाओं के लिए एक मेडिकल कॉलेज खोलने का सपना लेकर लौटीं। हालांकि, दुर्भाग्य से उनका यह सपना पूरा नहीं हो पाया। वह भारत लौटने के बाद काफी बीमार रहने लगी थीं। टीबी से पीड़ित जोशी की तबीयत दिन-ब-दिन खराब होती गई। 26 फरवरी 1887 को टीबी के कारण 22 साल की उम्र में उन्होंने दुनिया को अलविदा कह दिया।