कोरोना वायरस से बचाव के लिए गोरक्षनाथ मंदिर में पुजारियों ने यज्ञ में डाली आहूति

गोरखपुर. उत्तर प्रदेश में कोरोनावायरस के 17 रोगी अब तक मिल चुके हैं। ऐसे में देश और प्रदेश में भी इस वायरस से बचने के लिए तमाम तरह के उपाय किए जा रहे हैं। बुधवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गोरक्षपीठ में भी यज्ञ का आयोजन किया गया। कोरोना वायरस से वातावरण को बचाने और शुद्ध रखने के लिए गोरखनाथ मंदिर में मुख्य पुजारी बाबा कमलनाथ की अगुवाई में पुजारियों ने यज्ञ की आहुति दी।

पुजारी वेद आचार्य रामानंद त्रिपाठी ने कहा कि यज्ञ से वातावरण शुद्ध होता है। उन्होंने अन्य मंदिरों और घरों में भी उन्होंने यज्ञ करने का आह्वान किया। बताया कि मंत्रों का उच्चारण कर यज्ञ के माध्यम से वातावरण को शुद्ध करने के साथ कोराना जैसे वायरस को भगाया जा सकता है। इसके पहले भी जब भी देश में ऐसी आपदाएं आईं, तब गोरखनाथ मंदिर में यज्ञ की आहुति दी गई है।

गोरखनाथ मंदिर के कार्यालय सचिव द्वारिका तिवारी ने बताया कि हर आपदाओं और ऐसे लोगों पर जब देश को जरूरत होती है तो गोरखनाथ मंदिर प्रमुखता से आगे रहता है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कोरोना भारत को लेकर बहुत ही गंभीर है। ऐसे में यज्ञ की आहुति देना, इसमें कोई बुराई नहीं है। अन्य मंदिरों और घरों में भी लोगों को यज्ञ करना चाहिए, जिससे वातावरण शुद्ध हो सके और ऐसी महामारी से हम सभी निपट सकें।