भारत-नेपाल सीमा पर ज्वाइंट पेट्रालिंग, FM रेडियो बंद करने सहित कई मुद्दों पर सहमति
इस ख़बर को शेयर करें

मधुबनी। विधान सभा चुनाव में सुरक्षा को लेकर रविवार को प्रशासनिक सभागार में भारत-नेपाल के अधिकारियों की संयुक्त बैठक आयोजित की गई। दिन 11 बजे प्रारम्भिक प्रक्रिया गार्ड ऑफ ऑनर के बाद स्वागत व शिष्टाचार संस्कृति से कार्यक्रम आगे बढ़ी। दोनों देशों के पदाधिकारियों के बीच ज्वाइंट पेट्रोलिंग एवं अपराधियों के धरपकड़ अभियान पर सहमति बनी है।

सीमावर्ती विधानसभा क्षेत्रों में किसी भी प्रत्याशियों का प्रचार-प्रसार नेपाली एफएम रेडियो से नहीं होगा। सीमावर्ती क्षेत्रों के सौ किलोमीटर के रेंज में नेपाल एफएम रेडियो से प्रसारण बंद रखने की सहमती हुई है। विधानसभा चुनाव में भारत नेपाल सीमा पर सुरक्षा को लेकर सीमावर्ती क्षेत्र के नेपाल के तीन जिलों के ज्वाइन्ट बार्डर सिक्युरिटी काम करेंगे।

दोनों देशों के प्रशासनिक एवं पुलिस पदाधिकारियों की बैठक लगभग तीन घंटो तक चली। दोनों देशों के बीच 65 किलोमीटर बार्डर एरिया में संयुक्त पेट्रोलिंग, भारत से सटे नेपाल सीमा को सील करने, सीमा से सटे 100 किलोमीटर रेंज में नेपाली एफएम रेडिओ के प्रसारण को बंद करने, सीमा से सटे विधानसभा क्षेत्र के प्रत्याशी नेपाली एफ एम से चुनांव प्रचार पर रोक, सीमा क्षेत्र में अपराधियों की धर पकड़, सुरक्षा को लेकर दबाव बढाने आदि कई अन्य मुद्दों पर दोनों देश के बीच सहमति बनी है।

रविवार को हुई इस कार्यक्रम में दरभंगा रेंज के डीआईजी अजिताभ कुमार, डीएम डा नीलेश रामचंद्र देवरे, एसपी डा सत्यप्रकाश थे। नेपाल के धनुषा जिले के चीफ डिस्ट्रिक्ट आफिसर प्रेम प्रसाद भट्टराई, सीडीओ सिरहा प्रदीप राज परेल, महोत्तरी जिला के सीडीओ कृष्णा बहादुर कटुवाल, एसपी जनकपुर रमेश कुमार बसनेट, एसपी सिरहा उमाशंकर पंजियार, एसपी महोत्तरी टीका बहादुर केसी, एसएसबी राजनगर के कमांडेंट बीके यादव, एसएसबी जयनगर के कमांडेंट शंकर सिंह, सहायक समाहर्ता प्रीति, एडीएम अवधेश राम, एसडीओ बेनीपट्टी अशोक कुमार मंडल, एसडीपीओ फुलपरास ललन प्रसाद चौधरी, एसडीओ मधुबनी सदर अभिषेक रंजन, कस्टम सुपरिंटेंडेंट जयनगर, मनोज कुमार, उत्पाद अधीक्षक गणेश प्रसाद सहित जिले के कई वरीय अधिकारियों ने भाग लिया।