जीएसटी विधेयक के 1 जुलाई से लागू होने की उम्मीद

नई दिल्ली@ आर्थिक सुधार पर वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि सधारो को लेकर देश में काफी सर्मथन है। उन्होंने कहा कि रुकावटी ताकते धीरे धीरे शांत हो रही है। उन्होंने जीएसटी विधेयक के 1 जुलाई से लागू होने की उम्मीद जतायी दुनिया भर से आए प्रतिनिधियो के सामने वित्त मंत्री ने आर्थिक मोर्चे पर भारत का अनुभव साझा किया और बताया कि कामनवेल्थ देश भारत से क्या कुछ सीख सकते है।

नई दिल्ली में 23वे कॉमन वेल्थ ऑडिटर्स कॉफ्रेन्स में जेटली ने कहा कि भारत दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था है और आने वाले दिनो में भी भारत की यही स्तिथि रहने वाली है। आर्थिक सुधार पर अरुण जेटली ने कहा कि सधारो को लेकर देश में काफी सर्मथन है और रुकावटी ताकते धीरे धीरे शांत हो रही है। उन्होने जीएसटी विधेयक के 1 जुलाई से लागू होने की उम्मीद जतायी।

विमुद्रीकरण की तारीफ करते हुए वित्त मंत्री ने कहा कि इससे अर्थव्यवस्था में एकरुपता आएगी। इससे देश की अर्थव्यवस्था का आकार बढ़ेगा और लेन-देन भी पारदर्शी होगा। वित्त मंत्री ने सीएजी के रोल को भी सराहा और कहा कि इससे ना सिर्फ शासन में निखार आया है बल्कि एक जिम्मेदार शासन का भी देश में आगाज हुआ है। 23वे कॉमन वेल्थ ऑडिटर्स कॉफ्रेन्स में 36 देशो के 74 प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया। पाकिस्तान और बांग्लादेश के प्रतिनिधियों ने भारत के नेतृत्व की सराहना करते हुए कहा कि बाकि देश भारत से काफी कुछ सीख सकते है।

एक तरह की कांफेस का आयोजन भारत में पहली बार हो रहा है। इस बार का फोकस है पब्लिक ऑडिट में क्षमता वृद्धि के लिए साझेदारी। राष्ट्रमंडल देशो की ऑडिटिंग संस्थाए विभिन्न चुनौतियो पर चर्चा करने के लिए हर तीन साल में सम्मेलन करती है। इस तरह का आखिरी सम्मेलन 2014 में मालता में आयोजित किया गया था।