Rajasthan में गुर्जर आंदोलन: इन 5 जिलों में इंटरनेट बंद; 60 ट्रेनें डायवर्ट, 220 बसें रुकीं, यह है बैंसला गुट की 6 प्रमुख मांगें

इस ख़बर को शेयर करें:

जयपुर। एमबीसी आरक्षण समेत विभिन्न मांगों को लेकर प्रस्तावित गुर्जर आंदोलन को लेकर समाज के लोगों ने दूसरे दिन सोमवार सवेरे पीलूपुरा में जुटना शुरू कर दिया है। रविवार को भरतपुर के बयाना में कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला गुट के लोग पीलूपुरा के पास रेलवे ट्रैक पर धरने पर बैठ गए। गुर्जर रातभर पटरियों पर जमे रहे, धरना आज भी जारी है।

इंटरनेट बंद होने, ट्रेनें-बसें रुकने से जनता परेशान

जानकारी के अनुसार आंदोलनकारियों ने दिल्ली-मुंबई रेलवे ट्रैक की फिश प्लेटें उखाड़ फेंक दीं है। इसलिए, रविवार को 40 मालगाड़ियों समेत 60 ट्रेनें डायवर्ट करनी पड़ीं। इसलिए दिल्ली-मुंबई की ट्रेनों को डायवर्ट करना पड़ा, 2 ट्रेनें रद्द करनी पड़ीं। आज भी 4 ट्रेनें रद्द की गई हैं। रविवार रोडवेज के पांच बड़े डिपो दौसा, हिंडौन, करौली, भरतपुर और बयाना से आगरा और आस-पास के क्षेत्र में जाने वाली करीब 220 बसों को रोक दिया गया। इस कारण सैकड़ों लोग जहां-तहां फंस गए हैं। इस बीच, बीती रात सरकार की ओर से बैंसला से वार्ता करने गए खेल मंत्री अशोक चांदना खाली हाथ ही जयपुर लौट गए। चांदना आंदोलनस्थल से एक किमी पहले तक पहुंच गए थे, लेकिन भारी जाम के कारण आगे नहीं जा सके। उन्होंने बैंसला और उनके बेटे विजय बैंसला से फोन पर बात की। उन्हें कहा गया कि दोबारा कॉल करते हैं, लेकिन उनसे दोबारा संपर्क ही नहीं किया गया। इस कारण वे जयपुर लौट आए।

सरकार ने समझौते की कोशिश की, लेकिन नाकाम रही

खबर के मुताबिक सरकार की तरफ से खेल मंत्री अशोक चांदना रविवार को बैंसला से बात के लिए गए थे, लेकिन खाली हाथ ही जयपुर लौट गए। भास्कर से बातचीत में चांदना ने बताया, “मैं आंदोलन वाली जगह से एक किमी पहले तक पहुंच गया था, लेकिन भारी जाम की वजह से आगे नहीं जा सका। फिर किरोड़ी बैंसला से बात की। उन्होंने कहा कि मेरी तबीयत ठीक नहीं, आप मेरे बेटे विजय बैंसला से बात कर लें। विजय को फोन किया तो उन्होंने कहा कि मैं 2-4 मिनट में कॉल करता हूं, लेकिन मुझसे दोबारा संपर्क ही नहीं किया।”

बैंसला गुट की 6 प्रमुख मांगें

-भर्तियों में पूरा 5 प्रतिशत आरक्षण मिले।
-समझौता और मैनिफेस्टो में वादे के मुताबिक बैकलॉग की भर्तियां निकाली जाएं।
-आरक्षण आंदोलन में मारे गए लोगों के परिजन को सरकारी नौकरी और मुआवजा मिले।
-आरक्षण विधेयक को नवीं अनुसूची में डाला जाए।
-MBC कोटे से भर्ती 1252 कर्मचारियों को रेगुलर पे-स्केल मिले।
-देवनारायण योजना में विकास योजनाओं के लिए बजट दिया जाए।

नहरा इलाके के 41 सदस्यीय गुर्जरों से हुए समझौते को बैंसला ने लॉलीपॉप बताया

नहरा इलाके के 41 सदस्यीय गुर्जर प्रतिनिधि मंडल ने सरकार से शुक्रवार शाम बात की थी। इस बातचीत में 14 पॉइंट्स पर हुए समझौते की कॉपी लेकर बयाना के SDM सुनील आर्य रविवार शाम करीब 5.30 बजे कर्नल किरोड़ी बैंसला के पास पहुंचे। जैसे ही SDM ने समझौता पढ़ना शुरू किया तो कर्नल ने कहा कि विजय बैंसला को बताएं। बाद में विजय बैंसला ने इस समझौते को लॉलीपॉप कहकर खारिज कर दिया।

किरोड़ी बैंसला बोले- CM पर एक बार और भरोसा करना चाहिए कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला ने खुद कहा, “मेरे पास CM अशोक गहलोत का फोन आया था। उन्होंने डिटेल में बात करने के साथ ही भरोसा दिलाया है कि गुर्जर समाज की मांगों को जल्द से जल्द पूरा करने की कोशिश करेंगे। इसलिए हमें मुख्यमंत्री पर एक बार और भरोसा करना चाहिए।”