ग्वालियर के विकास के लिये नगर निगम से संसद तक प्रयास जारी – तोमर

वार्ड-59 में सवा करोड़ रूपए की लागत के विभिन्न निर्माण कार्यों का भूमि पूजन 

ग्वालियर | ग्वालियर को विकास के चरम पर पहुँचाने के लिये नगर निगम से लेकर भारत की संसद तक समन्वित प्रयास जारी हैं, अब ग्वालियर के विकास की बात प्रधानमंत्री के कान तक पहुँचना प्रारंभ हो गई है। यह बात केन्द्रीय इस्पात एवं खनन मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने वार्ड-59 में सवा करोड़ रूपए की लागत के निर्माण कार्यों के भूमि पूजन के अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में कही। 
कार्यक्रम की अध्यक्षता महापौर श्री विवेक नारायण शेजवलकर ने की तथा कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रूप में प्रदेश की महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती माया सिंह, ग्वालियर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री अभय चौधरी, विशेष क्षेत्र विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री राकेश जादौन, सभापति नगर निगम श्री राकेश माहौर, भाजपा जिला अध्यक्ष श्री देवेश शर्मा स्थानीय पार्षद श्रीमती करूणा सक्सेना सहित अन्य जनप्रतिनिधि व बड़ी संख्या में आमजन उपस्थित थे। 
    केन्द्रीय मंत्री श्री तोमर ने कहा कि लोकतांत्रिक व्यवस्था में किसी भी नगर के अधोसंरचना विकास की जिम्मेदारी स्थानीय निकाय की होती है। इसीलिये क्षेत्र के विकास में पार्षद की भूमिका को महत्वपूर्ण माना जाता है। उन्होंने कहा कि गत 10-12 वर्षों में  ग्वालियर शहर में बड़े पैमाने पर विकास कार्य सम्पन्न हुए हैं। जिनके परिणाम स्वरूप ग्वालियर की सूरत व सीरत दोनों बदले हैं। श्री तोमर ने कहा कि ग्वालियर देश के उन चुनिंदा शहरों में है, जिनमें एक ही दल की सरकार नगर से लेकर केन्द्र तक उसके विकास के बारे में प्रयासरत है। हम वर्ष 2003 के और आज 2016 के ग्वालियर की तुलना करें, तो हम स्वयं पायेंगे कि ग्वालियर विकास की ओर किस तेजी से अग्रसर हुआ है। ग्वालियर के डबरा व शिवपुरी दोनों प्रवेश द्वारों को सुधारने के लिये 100 करोड़ रूपए की लागत से सड़कों का निर्माण कार्य जारी है। इसी क्रम में उनके द्वारा रायरू से पुरानी छावनी लक्ष्मीगंज तक फोरलेन सड़क निर्माण हेतु केन्द्रीय मंत्री श्री नितिन गडकरी से 150 करोड़ रूपए स्वीकृत किए जाने हेतु अनुरोध किया गया है। राज्य सरकार द्वारा शहर में सड़क, पानी, बिजली के लिये भी सभी आवश्यक संसाधन उपलब्ध कराए जा रहे हैं। 
   केन्द्रीय मंत्री श्री तोमर ने कहा कि भारत वर्ष युवाओं का देश है और युवाओं को रोजगार मुहैया कराने के उद्देश्य से प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा “मेक इन इंडिया” के साथ-साथ “स्किल इंडिया” का नारा दिया है। जिसका उद्देश्य युवाओं में स्किल डवलप कर उन्हें रोजगार मुहैया कराना है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री का सपना है कि जो युवा नौकरी प्राप्त नहीं कर सकते हैं, वह अपना स्वयं का रोजगार स्थापित करें और उसके लिये प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के माध्यम से भारत सरकार ऋण उपलब्ध करायेगी। उन्होंने बताया कि मुद्रा योजना के माध्यम से अभी तक देश में एक करोड़ 29 लाख युवाओं को 71 हजार करोड़ से अधिक के ऋण उपलब्ध कराए जा चुके हैं। 
विकास मुहावरा नहीं मिशन है – श्रीमती माया सिंह
    प्रदेश की महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती माया सिंह ने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार के लिये विकास केवल एक मुहावरा नहीं है बल्कि यह एक मिशन है। जिसे पूरा करने के लिये पूरी सरकार कृत संकल्पित है। उन्होंने कहा कि इसी क्रम में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा स्थानीय निकायों को आर्थिक रूप से सुदृढ़ बनाने का प्रयास किया जा रहा है। राज्य सरकार द्वारा निकायों के निर्वाचित प्रतिनिधियों और अधिकारियों के वित्तीय अधिकारों में बढ़ोत्तरी की गई है, जिससे विकास को गति मिल सकेगी। उन्होंने ग्वालियर शहर को स्मार्ट सिटी और अमृत योजना में चुने जाने के लिये भी शहरवासियों को बधाई दी और आशा व्यक्त की कि ग्वालियर स्मार्ट सिटी के रूप में देश के चुनिंदा 20 शहरों में भी अपना स्थान बना सकेगा। 
ग्वालियर को “स्वच्छ ग्वालियर” बनाना हमारा संकल्प – महापौर श्री शेजवलकर
     कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित महापौर श्री विवेक नारायण शेजवलकर ने कहा कि ग्वालियर में विकास की बहुत संभावना है। इसके लिये नगर निगम ग्वालियर लगातार प्रयासरत है और हर्ष का विषय है कि मध्यप्रदेश व भारत सरकार द्वारा भी ग्वालियर को भरपूर सहयोग प्राप्त हो रहा है। उन्होंने कहा कि ग्वालियर को स्वच्छ शहर के रूप में पहचान दिलाने के लिये ग्वालियर नगर निगम कृत संकल्पित है। इसके लिये नगर निगम द्वारा घर-घर कचरा संकलन का कार्य कराया जा रहा है। साथ ही स्थानीय नागरिकों को भी स्वच्छता के प्रति जागरूक बनाने का प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने नागरिकों से अपील की कि आप सभी के सहयोग से ग्वालियर नगर निगम “स्वच्छ ग्वालियर” के संकल्प को पूरा कर सकेगा। उन्होंने बताया कि भारत सरकार द्वारा ग्वालियर शहर को अमृत योजना में सम्मिलित किया गया है। इस योजना के माध्यम से शहर में पेयजल और सीवर लाईन विस्तार का कार्य पूर्ण किया जायेगा। इसके तहत नगर निगम को 74 करोड़ रूपए की राशि भी प्राप्त हो गई है। 
    इससे पूर्व पार्षद श्रीमती करूणा सक्सेना बताया कि वार्ड में सवा करोड़ रूपए के भूमि पूजन के अंतर्गत 27 लाख 50 हजार रूपए की लागत से नाला निर्माण, 9 लाख 70 हजार रूपए की लागत से नाली व वाउण्ड्रीवॉल का निर्माण, 11 लाख 40 हजार रूपए की लागत से ग्राम नीमचंदोवा में सार्वजनिक शौचालय का निर्माण, 15 लाख रूपए की लागत से पार्क का निर्माण, कुंडी गाँव में 11 लाख रूपए की लगात से मुक्तिधाम का निर्माण, लक्ष्मणपुरा में 3 लाख रूपए की लागत से सीसी रोड़ व 5 लाख रूपए की लागत से सामुदायिक भवन का निर्माण, केदारपुर में 4 लाख 15 हजार रूपए की लागत से नाली निर्माण, ग्राम बड़ीमढैया में 5 लाख रूपए की लागत से पार्क में पेवर और साढ़े चार लाख रूपए की लागत से नाली निर्माण, ग्राम गुर्जरपुरा में साढ़े चार लाख रूपए की लागत से नाला निर्माण तथा 4 लाख 80 हजार रूपए की लागत से आँगनबाड़ी केन्द्र का निर्माण कराया जायेगा। इन सब कार्यों का भूमि पूजन आज सम्पन्न कराया गया।