Skip to content

हैकर्स, स्कैमर्स और मालवेयर के चलते अब डिजिटल कामकाज भी सुरक्षित नहीं, इन बातों पर दें ध्यान, नहीं होंगे परेशान

Tags:
इस ख़बर को शेयर करें:


कोरोना महामारी के दौरान डिजिटल कामकाज की भी भूमिका भी अहम हो गई है। अब आधे से ज्यादा काम घर पर बैठकर डिजिटल माध्यम से हो रहा है। इसमें चाहे खुद को बिजनेस हो या फिर दूसरों के लिए काम करना। ऐसे में डिजिटल तरह से काम करना भी सुरक्षित नहीं है क्योंकि हैकर्स, स्कैमर्स और मालवेयर की भी लगातार वृद्धि हो रही है। आइए जानते हैं कि ऑनलाइन काम करने के दौरान किन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

अनजान से जानकारी साझा न करें
अपनी निजी जानकारियों को कभी भी किसी के साथ शेयर नहीं करनी चाहिए। क्योंकि यह हमारे काम को प्रभावित या नुकसान पहुंचा सकता है। हैकर्स आपकी पसंद, नापसंद, मोबाइल नंबर जन्मतिथि से लेकर कई जानकारी इकट्ठा करते हैं। इसके बाद हैकर्स आपके पासवर्ड का अनुमान लगाने के लिए दी गई जानकारी का इस्तेमाल करते हैं, जिससे सिस्टम हैक होने की संभावना बढ़ जाती है। इसलिए निजी जानकारी बताने में परहेज करें।

फिशिंग ई-मेल और लिंक को करें चेक
कभी-कभी आपके पास कोई ऐसी मेल या लिंक आ जाता होगा, जो देखने में ही संदिग्ध सा लगता है। ऐसे लिंक और मेल से भी बचना चाहिए, क्योंकि हैकर्स, स्कैमर्स फिशिंग ई-मेल और गलत लिंक से हैक करने की कोशिश करते हैँ। इस तरह के लिंक और ई-मेल की जांच करने के लिए आपको वास्तविक कंपनी से मिलान करना होगा। अगर मेल और लिंक सही है, तभी उस पर क्लिक करें।

एंटी-वायरस सॉफ्टवेयर को रखें अपडेट
अगर आप इंटरनेट सेवाओं का इस्तेमाल करते हैं तो आपको अपने सिस्टम का एंटी-वायरस अपडेट रखना पड़ेगा। एंटी-वायरस इंटरनेट के माध्यम से होने वाले खतरे का पता लगाता है। मालवेयर और ट्रोजन से भी एंटी-वायरस आपके सिस्टम को बचाता है, नहीं ये आपकी फाइलें और डेटा को बर्बाद कर सकता है। इसलिए सुरक्षा के लहजे से अपने सिस्टम पर एंटी-वायरस सॉफ्टवेयर का उपयोग करें। साथ ही समय-समय पर एंटी-वायरस को अपडेट करते रहें।

सुरक्षा के लिए जटिल पासवर्ड बनाएं
जितना समय आप इंटरनेट की दुनिया बिताएंगे उतना ही खतरा बना रहता है। इंटरनेट की दुनिया के जालसाज बहुत ही शातिर होते हैं। ये आपको पासवर्ड को क्रेक करने की कोशिश लगातार करते रहते हैं। सोशल मीडिया के पासवर्ड हों या फिर आपके लैपटॉप या कंप्यूटर के पासवर्ड, इन्हें हमेशा स्ट्रॉन्ग बनाना चाहिए। हैकर्स आसानी से साधारण पासवर्ड को क्रेक कर लेते हैं, इसलिए पासवर्ड बनाने का भी ध्यान रखना चाहिए।

दुनियाभर में 123456 सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाने वाला पासवर्ड है, वहीं भारत में सबसे ज्यादा इंटरनेट यूजर्स ‘पासवर्ड’ (password) शब्द को ही पासवर्ड की तरह इस्तेमाल करते हैं। भारत में इसका इस्तेमाल 17 लाख से ज्यादा यूजर्स अपने अकाउंट्स के लिए कर रहे हैं।