लिंग जांच कराने वाले गिरोह के तीन सदस्यों को स्वास्थ्य विभाग की टीम ने कराया मुकदमा दर्ज

पलवल। जिला स्वास्थ्य विभाग की टीम ने लिंग जांच कराने वाले गिरोह के तीन सदस्यों को पकड़ कर पुलिस के हवाले कर मुकदमा दर्ज कराया है। विवरण अनुसार मुख्य चिकित्सा अधिकारी पलवल को सूचना मिली कि राजूद्दीन व सुनील नाम का व्यक्ति पलवल के कुछ क्षेत्रों से गर्भवती महिलाओं को दिल्ली ले जाते हैं और उनके गर्भ में पल रहे बच्चों की लिंग जांच कराते हैं।

जिसकी एवज में वह 40 हजार से 50 हजार रुपये वसूलते हैं, जिसकी जांच के लिए सिविल सर्जन पलवल ने डॉक्टर जगदीश प्रसाद, डॉक्टर निधि सरोद , डीसीओ कृष्ण कुमार, लीगल एडवाइजर संजय गुप्ता को जांच के लिए अधिकृत किया। जांच टीम ने एक नकली ग्राहक तैयार किया और जिसका संपर्क राजूदिन से करवाया।

राजूदिन ने नकली ग्राहक को जग प्रवेश हॉस्पिटल शास्त्री नगर दिल्ली में बुलाया। टीम नकली ग्राहक को अपने साथ लेकर जग प्रवेश हॉस्पिटल के पास पहुंची जहां उनकी मुलाकात राजुद्दीन से हुई। राजूदिन ने कुछ देर अपने फोन पर बात करने के बाद सौदा 40 हजार रुपये में तय किया।

इसके पश्चात वह नकली ग्राहक को एक थ्री व्हीलर में बैठा कर लोनी चक्कर नई दिल्ली ले गया। जहां राजूदीन ने नकली ग्राहक को मनोज नाम के लड़के को दे दिया जो कि वह उसे अपनी मोटरसाइकिल पर बैठाकर लोनी बॉर्डर की तरफ चल दिया। टीम लगातार इनका पीछा करती रही। कुछ दूरी पर जाने के बाद मनोज ने नकली ग्राहक को ज्ञान नाम के लड़के के हवाले कर दिया जो कि ज्ञान अपनी मोटरसाइकिल पर उसको दिल्ली डायग्नोस्टिक सेंटर लोनी गाजियाबाद में लेकर गया।

जहां पर उसका अल्ट्रासाउंड करा कर उसके गर्भ में पल रहे बच्चे का लिंग जांच कराया और उसके घर में लड़की होना बताया, जिसके बाद नकली ग्राहक को वापस लेकर लोनी गोल चक्कर दिल्ली की तरफ आने लगा और रास्ते में नकली ग्राहक को अन्य व्यक्ति जोगिंदर के हवाले कर दिया और जोगिंदर नकली ग्राहक को लेकर लोनी गोल चक्कर पर आ गया जहां पर राजदिन पहले से ही मौजूद था।

टीम ने दोनों को काबू कर लिया राजू दिन की तलाशी में16 हजार रुपये उसकी जेब से बरामद हुए। जोगिंदर की तलाशी में 4 हजार रुपये बरामद हुए। दोनों ने बताया कि वह लिंग जांच कराने का काम सुनील नाम के व्यक्ति के मार्फत करवाते हैं, जिसके बाद इन दोनों की निशानदेही पर सुनील को वही पास की ही लैब से काबू किया। सिटी पलवल थाना में एक लिखित तहरीर देकर आरोपियों के खिलाफ एक एफआईआर दर्ज कराई है अब आगे की तफ्तीश पुलिस कर रही है।