विकास दुबे से उसके बहन बहनोई ने भी तोड़ा रिश्ता: कहा- उसे चाहे जो सजा दो

विकास दुबे के जीजा ने कहा- मेरा वश चले तो खुद ही गोली मार दूं

उत्तर प्रदेश में कानपुर के बिकरु गांव को हुए हत्याकांड का मास्टरमाइंड व शातिर अपराधी विकास दुबे पुलिस की पकड़ से अभीदूर है। इस बीच लोग अब उसके खिलाफ जुबान खोलने लगे हैं। जहां कल तक कोई भी एक शब्द नहीं बोल रहा था, वहीं अब उसके अपने ही उसके खिलाफ खड़े होने लगे हैं और रिश्तेदार भी अपराधी विकास दुबे से सम्बंधों को नकार रहे हैं। हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे की सगी बहन व जीजा कह रहे हैं कि जब वह अपनी सगी बहन का नहीं हुआ तो किसी का नहीं हो सकता। करीब 6 सालों से बहन का रिश्ता भाई से खत्म हो चुका है और जो भी सजा देनी है दे डालो।

बिकरु कांड को अंजाम देने के बाद फरार चल रहे अपराधी विकास दुबे के करीबियों के साथ रिश्तेदार पर पुलिस की निगाह अब टेढ़ी हो चुकी है। जिसके चलते शुक्रवार की रात से थाना शिवली में हिरासत में रखे गए अपराधी विकास दुबे की जीजा दिनेश तिवारी अब अपने साले को पहचानने से ही इनकार करने लगे हैं।

दिनेश तिवारी यहीं नहीं रुके उन्होंने कहा कि अगर उनका वश चले तो वह विकास दुबे को खुद गोली मार दें, क्योंकि उसकी वजह से उसके परिवार को मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि उसने जो किया है उसकी कीमत हम चुका रहे हैं। अगर मेरे वश में होता तो मैं उसे गोली मार देता। पुलिस हिरासत में मौजूद दिनेश तिवारी ने कहा कि उन्होंने और उनके परिवार ने पिछले पांच-छह सालों से विकास दुबे से सभी संबंध तोड़ लिए हैं।

वहीं विकास दुबे की बड़ी बहन चंद्रकांता ने भी कहा कि उन्होंने पिछले पांच-छह सालों से अपने अपराधी भाई से मुलाकात तक नहीं की है। बड़ी बहन ने कहा- वह किसी का नहीं हो सकता है उसने तो थोड़े से पैसे के लिए मेरे बड़े बेटे को भी जान से मारने की धमकी दी थी और कुछ साल पहले उनके पति के साथ अभद्रता की थी। जिसके बाद परिवार ने उसके साथ सभी संबंध तोड़ दिए। उन्होंने कहा कि विकास दूबे ने बहुत गलत काम किया। विकास को कठोर से कठोर दंड दिया जाए, उसने पुलिसकर्मियों को मारा है।

वहीं बड़ी बहन के बेटे व विकास के भांजे ध्रुव व भांजी अनामिका ने कहा ‘मामा’ (विकास दुबे) के साथ हमारा कोई संबंध नहीं है और हमें और हमारे परिवार को इस मुद्दे पर परेशान नहीं किया जाना चाहिए।