हाथरस गैंगरेप : ‘पैसों से गरीबों को कब तक खरीदेगी सरकार, हमें हमारी दीदी वापस चाहिए’
इस ख़बर को शेयर करें

हाथरस गैंगरेप पीड़िता के परिजनों को सरकार ने 25 लाख रुपये, नौकरी और घर देने का किया ऐलान

हाथरस: उत्तर प्रदेश के हाथरस में हुए दलित लड़की के गैंगरेप और मौत ने सभी को झकझोर कर रख दिया है. इस बीच योगी आदित्यनाथ सरकार ने हाथरस गैंगरेप पीड़िता को पहले 10 लाख और इसे फिर 25 लाख लाख रुपये देने का ऐलान किया. परिवार के एक सदस्य को नौकरी और शहर में एक घर देने भी देने की बात कही गई है.

वहीं, पीड़िता का परिवार बेहद सदमे में है. परिवार सदमे में होने के बाद ही डरा हुआ भी है. पुलिस द्वारा पीड़िता के शव को रात में ही बिना परिवार की इजाज़त के जलाए जाने के कारण परिवार का यकीन बुरी तरह से डगमगा गया है. परिवार का कहना है कि उनके साथ कुछ भी हो सकता है. बेटी का अंतिम संस्कार जबरन कर दिया गया. हमें बेटी का चेहरा भी आखिरी बार नहीं देखने दिया गया.

पीड़िता की भाभी ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि हमें हमारी दीदी वापस चाहिए हैं. पैसों से गरीबों को आखिर कब तक खरीदा जाता रहेगा. परिवार का कहना है कि उन्हें अब तक डराया जा रहा है. अंतिम संस्कार जब पुलिस कर रही थी तब जबरन धक्के मार कर मौके से हटा दिया गया. पता नहीं हमारी ही बेटी थी कि किसी और को जला दिया.

बहरहाल, इस घटना की जांच के लिए एसआईटी गठित कर दी गई है. एसआईटी ने इस मामले की जांच भी शुरू कर दी है. बता दें कि उत्तर प्रदेश के हाथरस गैंगरेप ने पूरे देश को हिला कर रख दिया है. बुरी तरह से की गई बर्बरता की गई. पीड़िता की जीभ काट गई थी. रीढ़ की हड्डी टूट गई थी.

हालत इतनी खराब थी कि पीड़िता को दिल्ली ले जाया गया, इसके बाद पीड़िता की मौत हो गई. पुलिस ने बिना परिवार को बताये और बुलाये जबरन पीड़िता के शव का रात में ही अंतिम संस्कार कर दिया. इसके बाद पूरे देश में हड़कंप मच गया. लोग सड़कों पर उतर आये और विपक्ष बेहद आक्रामक तरीके से सरकार पर हमलावर है.