नर्मदा नदी में बनी लंबी सुरंग पर सैकड़ों साँपों की भरमार

जबलपुर@ ललपुर में नर्मदा नदी पर बने जैकवेल से इंटकवेल तक बने सुरंग में और सैकड़ों फीट गहरे कुएं में सैकड़ों सापों का डेरा है। जैकवेल में स्टेनर की सफाई व नया स्टेनर लगाने मुंबई से आए गोताखोर जैसे ही सुरंग में घुसे, उनका सामना सांपों से हुआ। इससे ललपुर मेें पदस्थ अमले में दहशत फैल गई। हालांकि सांप पानी में रहने वाले बताए जा रहे हैं, उनसे कोई खतरा नहीं है।ललपुर में काम शुरू करने से पहले गोताखोरों से जैकवेल, टनल व इंटकवेल की वीडियोग्राफी कराई गई। काम पूरा होने के बाद भी वीडियोग्राफी कराई जाएगी।जैकवेल से इंटकवेल तक लगभग 150 मीटर लम्बी सुरंग व इंटकवेल की वीडियोग्राफी में बड़ी संख्या में बड़े-बड़े सांप व केकड़े कैद हुए हैं। इंटकवेल में बने गहरे कुएं में नीचे जाने के लिए सीढि़यां बनी हुई हैं। यहां पांच मोटरों से जैकवेल से आए पानी को खींचकर दोनों वाटर फिल्टर प्लांट तक पहुंचाया जाता है।

इंटकवेल में नीचे सांप होने की जानकारी निगम के अमले को पहले से थी। अब सांपों जानकारी से उनकी दहशत और बढ़ गई है। सन् 2008 में भी नर्मदा का जलस्तर उतर जाने के कारण मुंबई से गोताखोंरो को बुलाया गया था। उस समय स्टेनर व टनल को साफ किया गया था। इसके बाद 9 साल से न तो टनल को साफ किया गया और न ही जैकवेल में लगे स्टेनर की सफाई हुई। इससे नीचे लगे दोनों स्टेनर रेत, चोई, मिट्टी, छोटे पत्थरों के फंसने से चोक होकर रेत में धंस गए हैं। 9 साल में टनल को सांपों ने अपना अड्डा बना लिया। इनकी संख्या अब सैकड़ों में हो गई है।टनल व इंटकवेल में बड़ी संख्या में सांप होने की जानकारी सामने आई है।

कमलेश श्रीवास्तव, कार्यपालन यंत्री, जल विभाग का कहना है कि, गोताखोरों द्वारा की गई वीडियोग्राफी में सांप कैद हुए हैं। इसकी जानकारी जल प्रभारी सहित वरिष्ठ अधिकारियों को भी दी गई है