प्रतापगढ़ : इंद्राणीशंकर संस्कृत विद्या निकेतन मे स्वामी करपात्री जी की जयंती मनाई गयी

प्रतापगढ़। जिले के लालगंज क्षेत्र के इनहन भवानी धाम स्थित इंद्राणीशंकर संस्कृत विद्या निकेतन मे सोमवार को जगदगुरू धर्मसम्राट स्वामी करपात्री जी की जयंती समारोहपूर्वक मनाई गयी। कार्यक्रम का शुभारंभ अतिथियो द्वारा करपात्री जी के चित्र पर माल्यार्पण कर किया गया।

जयंती कार्यक्रम को संबोधित करते हुये बतौर मुख्यअतिथि रूरल बार एसोशिएसन के राष्ट्रीय अध्यक्ष ज्ञान प्रकाश शुक्ल ने कहा कि स्वामी करपात्री जी ने विश्वपटल पर सनातन संस्कृति एवं देववाणी संस्कृत के ध्वज वाहक के रूप मे भारत का मान बढ़ाया।

अध्यक्षता करते हुए प्रधानाचार्य आचार्य राजेश मिश्र ने कहा कि लालगंज क्षेत्र के भटनी गांव मे जन्म लेकर करपात्री जी महराज ने सनातन हिन्दू संस्कृति व विश्व की मानवता के कल्याण का शाश्वत चिंतन प्रदान कर प्रतापगढ़ का गौरव समूची दुनिया मे रोशन किया है।

उन्होनंे कहा कि करपात्री जी ने धर्म के पथ पर मजबूत विचारधारा कर सनातन संस्कृति को प्रवाहमान बनाये रखने मे अपना अप्रतिम योगदान दिया है। कार्यक्रम का संचालन वरिष्ठ अधिवक्ता पं. हरिशंकर द्विवेदी व संयोजन अधिवक्ता परिषद के अध्यक्ष राजेश तिवारी ने किया।

इस मौके पर आचार्य देवानंद मिश्र, अशोक शुक्ल, शशिशेखर पाण्डेय, शैलेंद्र शुक्ल, अजय सिंह, रमेश सिंह, राकेश शुक्ल, आचार्य त्रिवेणीधर शुक्ल, आशुतोष शुक्ला, अमरनाथ यादव, शिवाकांत शुक्ल, सत्येंद्र श्रीवास्तव आदि ने भी स्वामी करपात्री की पावन स्मृति को नमन करते हुए श्रद्धापुष्प अर्पित किये।