राजौरी और पुंछ जिलों में पाकिस्तान की ओर से नियंत्रण रेखा पर सैन्य चौकियों पर अधाधुंध फायरिंग

जम्मू कश्मीर में पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। एक ओर जहां वो नियंत्रण रेखा पर लगातार संघर्षविराम उल्लंघन कर रहा है वहीं उसकी ओर से आतंकी घुसपैठ की कोशिशें भी जारी है। लेकिन सेना और सुरक्षा बलों की कडी चौकसी से पाक के मंसूबे लगातार विफल हो रहे हैं ।

पाकिस्तान की तरफ से आज राजौरी और पुंछ जिलों में नियंत्रण रेखा पर स्थित सैन्य चौकियों पर अधाधुंध फायरिंग की गयी। यहां तक की स्कूली बच्चों को भी नहीं छोडा गया। नौशेरा में पाकिस्तान की आज की फायरिंग की चपेट में करीब 50 स्कूली बच्चें भी आ गए। स्कूली बच्चों की वेन पर पाकिस्तान की तरफ से तबाड-तोड गोलीबारी हुई। हालांकि इन सभी बच्चों को सुरक्षित निकाल लिया गया।

पाकिस्तान की ओर से आज राजौरी और पुंछ जिलों में नियंत्रण रेखा पर स्थित सैन्य चौकियों पर फिर से संघर्षविराम का उलंघन कर अंधाधुंध फायरिंग की गयी । पाकिस्तानी सेना ने सुबह सात बजे के करीब स्वचालित हथियारों से फायरिंग शुरु कर दी जिसका भारतीय सेना ने भी करारा जवाब दिया ।

राजौरी जिला प्रशासन ने सीमा के नजदीक स्थित 16 विद्यालयों को अनिश्चितकाल के लिये बंद करने का आदेश दे दिया है और स्थानीय निवासियों को नजदीकी शिविरों में भेज दिया गया है। सीमा पार से कल हुई गोलीबारी में सेना का एक जवान शहीद हो गया था और एक बच्ची की भी मौत हो गई थी। इसके अलावा दो लोग घायल हो गये थे। उधर बांदीपोरा जिले में सेना ने पीओके की ओर से घुसपैठ की एक और कोशिश को नाकाम करते हुए एक आतंकवादी को मार गिराया है। गुरेज सेक्टर में आतंकवादियों के एक समूह ने अंधेरे का लाभ उठा कर भारतीय सीमा में घुसपैठ की कोशिश की।

सैनिकों ने जवाबी कार्रवाई की आतंकवादी को ढेर कर दिया। सैनिकों ने इनके पास से तीन हथियार भी बरामद किये हैं। सुरक्षा बलों ने इलाके में तलाशी अभियान शुरू किया है। उधर अनंतनांग में सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में देर रात लश्कर-ए-तयबा के 3 आतंकी मारे गए हैं। तीनों मारे गये आतंकियों के शव बरामद कर लिए गए हैं और इनकी शिनाख्त लश्कर आतंकियों के रुप में हुई है। आतंकियों के पास से भारी मात्रा में हथियार और गोलाबारूद भी बरामद हुआ है।

इन सब के बीच मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने राज्य के सीमावर्ती इलाकों का दौरा किया। उन्होंने वहां पर न केवल सुरक्षा हालात का जायजा लिया बल्कि सीमा पर से व्यापार कर रहे कारोबारियों से बातचीत की । महबूबा ने दोनों देशों के रिश्तों के जल्द सुधरने का भरोसा जताया ।

एक ओर राज्य सरकार को जल्द हालात सुधरने का भरोसा है तो दूसरी ओर घाटी में पत्थरबाजी की घटनाओं में भी कमी आयी है। गृहमंत्रालय की ओर से लोकसभा में दिए आंकडों के मुताबिक 2016 में पत्थरबाजी की 2808 घटनाएं सामने आईं जबकि 2017 में अबतक 664 घटनाएं हुई हैं। वहीं सेना की भर्ती में भी बडी संख्या में युवा हिस्सा ले रहे हैं। जाहिर है सुरक्षा बल एक ओर जहां आतंकवादियों का सफाया कर रहे हैं वहीं सरकार लोगों का भरोसा जोडने में भी सफल होती दिख रही है .