भारत अपना खुद का संपूर्ण खाद्य संरचना डाटा बेस रखने वाले देशों के उत्‍कृष्‍ट समूह में शामिल हुआ : जे.पी. नड्डा

नई दिल्ली: ‘1971 के बाद, देश भर से विश्‍लेषित खाद्यों की जानकारी रखने वाला यह पहला व्‍यापक खाद्य संरचना डाटा है, जिसे जारी किया जाएगा। भारत अब अपना खुद का संपूर्ण खाद्य संरचना डाटा बेस रखने वाले देशों के उत्कृष्‍ट समूह में शामिल हो गया है।’ केन्‍द्रीय स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्‍याण मंत्री श्री जे.पी. नड्डा ने आज यहां ‘पोषण एवं स्‍वास्‍थ्‍य में खाद्य संरचना’ पर अंतर्राष्‍ट्रीय परिचर्चा का उद्घाटन करने के दौरान ये उद्गार व्‍यक्‍त किए।

श्री जे.पी. नड्डा ने नई भारतीय खाद्य संरचना सारणियों (आईएफसीटी) का भी विमोचन किया, जो रोगियों के आहारों के विश्‍लेषण तथा उनके लिए विशेष आहार की योजना बनाने के लिए नैदानिक प्रचलन समेत सभी प्रकार के पोषण संबंधी मूल्‍यांकनों के लिए एक संदर्भ पुस्‍तक है। इस अवसर पर स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्‍याण राज्‍य मंत्री श्री फग्‍गन सिंह कुलस्‍ते भी उपस्थित थे।

इस अवसर पर श्री जे पी नड्डा ने कहा कि व्‍यापक पोषण डाटा बैंक पोषण संबंधी दिक्‍कतों एवं देश में संबंधित विकारों को दूर करने में अनुसंधानकर्ताओं एवं नीति निर्माताओं की जरूरतों की पूर्ति करेगा। उन्‍होंने कहा कि नीति निर्माताओं एवं शोधकर्ताओं को इसके बारे में भी जानकारी मिलेगी कि लोग भारत में किस चीज का उपभोग कर रहे हैं।

बहरहाल हमें इसकी खोज करने की भी आवश्‍यकता है कि किस प्रकार इस वैज्ञानिक दस्‍तावेज का देश के आम लोगों द्वारा उपयोग किया जाएगा। स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री ने अधिकारियों को एक मोबाइल एप का निर्माण करने का भी निर्देश दिया, जिसका उपयोग हर व्‍यक्ति द्वारा अपनी खुशहाली बढ़ाने के लिए किया जाएगा।