अफ्रीका के साथ रिश्तों पर विशेष जोर देता रहेगा भारत: पीएम

इस ख़बर को शेयर करें:

ब्रिक्स के समापन सत्र में पीएम मोदी ने डिजिटल आधारभूत ढांचे में ज्यादा निवेश के साथ ही डिजिटाइजेशन के क्षेत्र में कौशल विकास का किया आह्वान, अफ्रीका के साथ भारत के ऐतिहासिक और गहरे संबंधों पर जोर देते हुए शांति, स्वतंत्रता और विकास कायम करने को बताया सर्वोच्च प्राथमिकता. जोहान्सबर्ग में ब्रिक्स शिखर सम्मेलन के दूसरे दिन विशेष समापन सत्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि नई सोच और प्रभावी कदम ब्रिक्स देशों के बीच सहयोग बढ़ाने और भविष्य की दिशा तय करने में होंगे मददगार। ब्रिक्स अफ्रीका आउटरीच में प्रधानमंत्री ने कहा 8 हजार अफ्रीकी छात्रों के लिए भारत में बढ़ाई गई छात्रवृत्ति।

जोहान्सबर्ग में ब्रिक्स शिखर सम्मेलन के दूसरे दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अफ्रीका आउटरीच के सत्र को संबोधित करते हुए कहा कि भारत के अफ्रीकी देशों के साथ बहुत करीबी रिश्ते हैं। पिछले चार साल में कई यात्राओं और मुलाकातों के बाद दोनों के बीच आर्थिक रिश्तों में नई ऊंचाई आई है। उन्होंने युगांडा संसद में गिनाए 10 सिद्धांतों का यहां भी जिक्र किया और कहा कि भारत अफ्रीका के साथ रिश्तों पर विशेष जोर देता रहा है और देता रहेगा।

प्रधानमंत्री ने साथ ही मुक्त व्यापार के लिए अफ्रीकी देशों को बधाई दी और कहा कि क्षेत्रीय एकता के लिए यह महत्वपूर्ण है। वहीं वैश्वीकरण और विकास में अहम भूमिका निभाने के लिए ग्लोबल साउथ को भी बराबर का भागीदार बताया। प्रौद्योगिकी, डेटा एनालिटिक्स पर जोर देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मजबूत डिजिटल बुनियादी ढांचे को विकसित करने की जरुरत पर बल दिया। उन्होंने कहा कि भारत साझेदार देशों के साथ विकास में भागीदार रहा है और दक्षिण दक्षिण सहयोग के तहत अपने अनुभवों और शिक्षाओं को साझा करना जारी रखेगा।

[amazon_link asins=’1471135454,0099494280,1101938625,0099539039,B01MZ7GP8Z,0857203886,0241338832,1416526374,0141984090′ template=’ProductCarousel’ store=’khabarjunction-21′ marketplace=’IN’ link_id=’48e4f1d8-9276-11e8-a535-6364532217d6′]

मेजबान देश दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति सिरिल रामफोसा ने इस मौके पर सभी देशों से टिकाऊ समावेशी विकास को हासिल करने के लिए मिलकर काम करने का आह्वान किया। ब्राजील के राष्ट्रपति मिशेल टेमर ने ब्रिक्स के भीतक शांति स्थापित करने के लिए कार्यकारी समूह गठन करने के दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति के सुझाव की सराहना की। वहीं चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने ब्रिक्स आउटरिच को बढ़ाने वाले चार बिंदुओं को रखा तो रूस के राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन ने अफ्रीका को आपार क्षमताओं वाला महाद्वीप बताया।